रहीम – कवितावली : अब्दुलरहीम खानखाना द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – साहित्य | Rahim – Kavitavali : by Abdul Rahim Khankhana Hindi PDF Book – Literature (Sahitya)

रहीम - कवितावली : अब्दुलरहीम खानखाना द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - साहित्य | Rahim - Kavitavali : by Abdul Rahim Khankhana Hindi PDF Book - Literature (Sahitya)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name रहीम – कवितावली / Rahim – Kavitavali
Author
Category, , , , , , , ,
Language
Pages 119
Quality Good
Size 11.15 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : महाबतखाँ ने खानखाना को कैद कर लिया। इनकी सारी सम्पत्ति जब्त करली गई और यह भी कहा जाता है कि इनका एक लड़का, जो उस समय आगेरे में ही था , पकड़ लिया गया और बाद में मार डाला गया। यधपि रहीम का इसमें किचित भी दोष नहीं था और उन्होंने कभी कभी भी शाहजहां के मंतव्य को स्वीकार नहीं किया…….

Pustak Ka Vivaran : Mahabatakhan ne Khankhana ko kaid kar liya. Inaki Sari Sampatti jabt karali gayi aur yah bhee kaha jata hai ki inaka ek ladaka, jo us samay Aagare mein hee tha , Pakad liya gaya aur baad mein mar dala gaya. Yadhapi Rahim ka Isamen kinchit bhee dosh nahin tha aur unhonne kabhi kabhi bhee shahjahan ke Mantavy ko svikar nahin kiya tha………

Description about eBook : Mahabat Khan imprisoned the Khankhana. All his property was confiscated and it is also said that a boy, who was in Agra at the time, was caught and later killed. Although Rahim did not have even a little fault in it and he never accepted Shah Jahan’s intention ……

“निकम्मे लोग सिर्फ खाने पीने के लिए जीते हैं, लेकिन सार्थक जीवन वाले जीवित रहने के लिए ही खाते और पीते हैं।” – सुकरात
“Worthless people live only to eat and drink; people of worth eat and drink only to live.” – Socrates

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment