राज सिंह : आचार्य चतुरसेन द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक | Raj Singh : by Acharya Chatursen Hindi PDF Book

Book Nameराज सिंह / Raj Singh
Author
Category, , , ,
Language
Pages 242
Quality Good
Size 15 MB
Download Status Available

राज सिंह का संछिप्त विवरण : महाराजा राजसिंह राजपूताना के प्रकाशमान नक्षत्र थे | उन्होंने समस्त राजपूत शक्ति के निस्तेज होने पर भी, अपनी आत्मा शक्ति और साधारण सत्ता से प्रबल प्रतापी मुगल बादशाह औरंगजेब का बड़ी मुस्तैदी और योग्यता से मुकाबिला किया | राजसिंह की विशेषता, राजपूतों की वह प्राचीन प्रसिद्द मरने की भावना नहीं अपितु…….

Raj Singh PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Maharaja Rajsingh Rajpootana ke prakashaman nakshatr the. Unhonne samast raajapoot shakti ke nistej hone par bhee, apanee aatma shakti aur saadhaaran satta se prabal prataapee mugal baadashaah aurangajeb ka badee mustaidee aur yogyata se mukaabila kiya. Raajasinh kee visheshata, raajapooton kee vah praacheen prasidd marane kee bhaavana nahin apitu………….
Short Description of Raj Singh PDF Book : Maharaja Raj Singh was the luminous constellation of Rajputana. Even when all the Rajput power was diminished, he competed with great power and merit of the powerful Mughal emperor Aurangzeb, with his soul power and ordinary power. The specialty of Rajsingh, the ancient Rajputs do not have the famous dying spirit but…………..
“जीवन में खुशी का अर्थ लड़ाइयां लड़ना नहीं, बल्कि उन से बचना है। कुशलतापूर्वक पीछे हटना भी अपने आप में एक जीत है।” नॉरमन विंसेंट पील (१८९८-१९९३)
“Part of the happiness of life consists not in fighting battles, but in avoiding them. A masterly retreat is in itself a victory.” Norman Vincent Peale (1898-1993)

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment