रामचरितमानस में रोग तथा उनकी चिकित्सा : डॉ. विजयपाल सिंह द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – सामाजिक | Ramcharitamanas Mein Rog Tatha Unaki Chikitsa : by Dr. Vijaypal Singh Hindi PDF Book – Social (Samajik)

रामचरितमानस में रोग तथा उनकी चिकित्सा : डॉ. विजयपाल सिंह द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - सामाजिक | Ramcharitamanas Mein Rog Tatha Unaki Chikitsa : by Dr. Vijaypal Singh Hindi PDF Book - Social (Samajik)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name रामचरितमानस में रोग तथा उनकी चिकित्सा / Ramcharitamanas Mein Rog Tatha Unaki Chikitsa
Author
Category, , , , , , ,
Pages 311
Quality Good
Size 54 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : मानस रोग से पीड़ित व्यक्ति में विकृति मानसिक क्रियायें, असामान्य व्यवहार एवं विकृत संवेग के लक्षण मिलते है। बहुत से रोगियों में तो ये लक्षण इतने स्पष्ट होते है कि साधारण व्यक्ति की मानसिक रोगियों को पहचान लेते है, किन्तु कुछ रोगियों में इनका निदान करने में कुशल चिकित्सकों को भी कठिनाई………….

Pustak Ka Vivaran : Manas Rog se Peedit vyakti mein vikrti Mansik kriyayen, Asamany vyavahar evan vikrt sanveg ke lakshan milate hai. Bahut se Rogiyon mein to ye lakshan itane spasht hote hai ki sadharan vyakti kee Mansik Rogiyon ko pahachan lete hai, Kintu kuchh rogiyon mein inaka Nidan karane mein kushal chikitsakon ko bhee kathinai hoti hai……..

Description about eBook : In a person suffering from psyche disease, there are signs of deformed mental activities, abnormal behavior and distorted emotions. In many patients, these symptoms are so obvious that an ordinary person can recognize mental patients, but in some patients, even skilled doctors have difficulty in diagnosing them …….

“अगर आप लोगों के साथ अच्छा बर्ताव करेंगे, तो वे भी आपके साथ अच्छा बर्ताव करेंगे – कम से कम 90% वक़्त।” ‐ फ्रेंकलिन डी रूसवेल्ट
“If you treat people right, they will treat you right – at least 90% of the time.” ‐ Franklin D. Roosevelt

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment