रूप के रंग हजार : जयप्रकाश शर्मा ‘प्रकाश’ द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – काव्य | Roop Ke Rang Hazar : by Jayprakash Sharma ‘Prakash’ Hindi PDF Book – Poetry (Kavya)

Book Nameरूप के रंग हजार / Roop Ke Rang Hazar
Author
Category, , , , ,
Language
Pages 115
Quality Good
Size 3 MB
Download Status Available

रूप के रंग हजार पीडीऍफ़ पुस्तक का संछिप्त विवरण :  ये रोटी भगवान की तरह घट-घट में व्याप्त है। जिसको देखो वही रोटी सेंकने की बात
करता है लेकिन सबका रूप-रंग-ढंग अलग-अलग हुआ करता है। रोटी रूप बिलकुल चाँद की तरह गोल-
मटोल-सुन्दर आकर्षण होता है। उसका अपना एक अलग तेवर होता है – राजा-एक-फ़क़ीर सब इसके अधीन
रहते है। इसका रूप पूरे संसार में पेमेंट है, वरना वह…

Roop Ke Rang Hazar  PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Ye Roti Bhagavan kee tarah ghat-ghat mein vyapt hai. Jisako Dekho vahee roti senkane kee bat karata hai lekin sabaka roop-rang-dhang alag-alag hua karata hai. Roti roop bilakul chand kee tarah gol-matol-sundar Aakarshan hota hai. Usaka apana ek alag tevar hota hai – Raja-ek-faqeer sab isake adheen rahate hai. Isaka roop poore sansar mein pement hai, varana vah…….

Short Description of Roop Ke Rang Hazar  Hindi PDF Book : This bread pervades the way of God. Whosoever looks at it talks about baking bread, but they all have different look and feel. The roti form has a chubby-beautiful charm just like the moon. He has his own different attitude – the king-in-law is subject to it. Its form is payment in the whole world, otherwise it is…..

 

“मैं अपने भाग्य का नियंत्रक हूं, मैं अपनी आत्मा का नियंता हूं।” – विलियम अर्न्स्ट हेन्ले
“I am the master of my fate; I am the captain of my soul.” – William Ernest Henley

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment