सदाचार का तावीज़ : लक्ष्मीचन्द्र जैन द्वारा हिन्दी पीडीएफ़ पुस्तक | Sadachar Ka Taviz : by Laxmichandra jain Hindi PDF Book

सदाचार का तावीज़ : लक्ष्मीचन्द्र जैन द्वारा हिन्दी पीडीएफ़ पुस्तक | Sadachar Ka Taviz : by Laxmichandra jain Hindi PDF Book
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name सदाचार का तावीज़ / Sadachar Ka Taviz
Author
Category, ,
Language
Pages 158
Quality Good
Size 2.13 MB
Download Status Available

सदाचार का तावीज़ पुस्तक का कुछ अंश : अर्जुन जानता था कि विदया पढ़नेसे नहीं, बल्कि गुरु-कृपा से प्राप्त होती है। बह निरन्तर गुरु को सेवा में रहता था। बह आचार्य के घर में किराना, कपड़ा, सब्जी आदि पहुँचाता था। त्यौहार पर आचार्य के पाँच बच्चों को बाज़ार ले जाता और उन्हें मिठाई, कपड़े, खिलौने आदि खरीद देता……..

Sadachar Ka Taviz PDF Pustak in Hindi Ka Kuch Ansh : Arjun janata tha ki vidya padhanese nahin, balki guru-krpa se prapt hoti hai. Vah nirantar guru ko seva mein rahata tha. vah achary ke ghar mein kirana, kapada, sabji adi pahunchata tha. Tyauhara par achary ke panch bachchon ko bazar le jata aur unhen mithai, kapade, khilaune adi kharid deta…………..
Short Passage of Sadachar Ka Taviz Hindi PDF Book : Arjuna knew that Vidya is not from reading, but it is received by Guru-Grace. He continued to serve Guru continuously. He used to deliver groceries, cloths, vegetables etc. in the Acharya’s house. Fauharap and took five children of Acharya from the market and offered him sweets, clothes, toys etc……………
“जब अवसर आता है तो तत्पर रहें।।।।किस्मत वह समय है जब तैयारी और अवसर की मुलाकात होती है।” – राय डी. चैपिन जूनियर
“Be ready when opportunity comes…Luck is the time when preparation and opportunity meet.” – Roy D. Chapin Jr

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment