गृहस्थ के सदाचार : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – सामाजिक | Grahasth Ke Sadachar : Hindi PDF Book – Social (Samajik)

Book Nameगृहस्थ के सदाचार / Grahasth Ke Sadachar
Category, ,
Language
Pages 4
Quality Good
Size 252 KB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : नारदजी कहते हैं-युधिष्टिर ! कुछ ब्राह्मणों की निष्ठा कर्म में, कुछ की तपस्या में, कुछ की वेदों के स्वाध्याय और प्रवचन में, कुछ की आ्नज्ञान के सम्पादन में तथा कुछ की योग में होती है। गृहस्थ पुरुष को चाहिए कि श्राद्ध अथवा देवपूजा के अवसर अपने कर्म का अक्षय फल प्राप्त करने के लिए ज्ञाननिष्ठा पुरुष को ही हव्य-कव्य का दान करे………

Pustak Ka Vivaran : Naradaji kahate hain-yudhishthir ! kuchh brahmanon kee nishtha karm mein, kuchh kee tapasya mein, kuchh kee vedon ke svadhyay aur pravachan mein, kuchh kee Aatmagyan ke sampadan mein tatha kuchh kee yog mein hoti hai. Grhasth purush ko chahiye ki shraddh athava devapooja ke avasar apane karm ka akshay phal prapt karane ke lie gyananishtha purush ko hee havy-kavy ka dan kare…………

Description about eBook : Naradji says – Yudhishthira! Some Brahmins have loyalty in karma, some in penance, some in the self-study and discourse of the Vedas, some in self-knowledge and some in yoga. The householder should donate Havya-Kavya to the man of wisdom to get the renewable fruit of his karma on the occasion of Shraddha or Devpuja…………

“यदि आप अपने जीवन को अपनी मर्जी के अनुसार नहीं चला पाते, तो आपको अपनी परिस्थितियों को अवश्य ही स्वीकार कर लेना चाहिए।” टी एस एलियट
“If you haven’t the strength to impose your own terms upon life, you must accept the terms it offers you.” T S Eliot

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment