सम्बोधि : मुनि नथमल द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – धार्मिक | Sambodhi : by Muni Nathmal Hindi PDF Book – Religious (Dharmik)

सम्बोधि : मुनि नथमल द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - धार्मिक | Sambodhi : by Muni Nathmal Hindi PDF Book - Religious (Dharmik)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name सम्बोधि / Sambodhi
Author
Category, ,
Language,
Pages 117
Quality Good
Size 3 MB
Download Status Available

सम्बोधि  पीडीऍफ़ पुस्तक का संछिप्त विवरण :  मेघ बोला – प्राणियों को सुख स्वाभाविक लगता है, प्रिय लगता है और दुःख अप्रिय | तब
सुख को ठुकरा कर दुःख क्यों सहा जाए ? भगवान ने कहा – जो सुख पुद्गल जनित है बह वस्तुत दुःख है,
किन्तु मोह से घिरा हुआ व्यक्ति इस सही तक पहुँच नहीं पाता | दर्शन-मोह से मुग्ध मनुष्य मिथ्यात्व की
ओर झुकता

Sambodhi PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Praniyon ko sukh Svabhavik lagata hai, Priya lagata hai aur duhkh apriy. Tab sukh ko Thukara kar Duhkh kyon saha jaye ? Bhagavan ne kaha – jo sukh pudgal janit hai vah vastut duhkh hai, kintu moh se ghira hua vyakti is sahi tak pahunch nahin pata. Darshan-moh se mugdh manushy Mithyatv ki or jhukata…………

Short Description of Sambodhi Hindi PDF Book : Megh spoke – the pleasures natural to the creatures, it seems natural and unpleasant. Then why do you get hurt by turning away happiness? God said – The happiness which is born of pudgal is indeed sadness, but a person surrounded by temptation can not reach this right. An enchanted man bent towards hypocrisy with philosophy………

 

“निराशावादी व्यक्ति केवल बादलों के अंधकारमय हिस्से को देखता है, और उदास होता है; दार्शनिक व्यक्ति दोनों हिस्सों को देखता है, तथा अरुचि दिखाता है; जबकि आशावादी बादलों को बिलकुल ही नहीं देखता- वह तो उनसे भी ऊंची उड़ान भरता है।” ‐ लियोनार्ड लुइस लेविनसन
“A pessimist sees only the dark side of the clouds, and mopes; a philosopher sees both sides, and shrugs; an optimist doesn’t see the clouds at all – he’s walking on them.” ‐ Leonard Louis Levinson

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment