सम्मेलन-पत्रिका कला : रामप्रताप त्रिपाठी द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – साहित्य | Sammelan Patrika Kala : by Rampratap Tripathi Hindi PDF Book – Literature ( Sahitya )

सम्मेलन-पत्रिका कला : रामप्रताप त्रिपाठी द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - साहित्य | Sammelan Patrika Kala : by Rampratap Tripathi Hindi PDF Book - Literature ( Sahitya )
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name सम्मेलन-पत्रिका कला / Sammelan Patrika Kala
Author
Category, ,
Language
Pages 496
Quality Good
Size 21 MB
Download Status Available

सम्मेलन-पत्रिका कला पुस्तक का कुछ अंश : कला की द्रष्टि से संसार भगवान की लीला का मूर्त रूप है | इसके तत्त्व को जानने की चेष्टा करना अपने आप को चकमा देना है | इसके द्वारा भीतरी रहस्य को जान पाना संभव नहीं | रूप अपने माध्यम द्वारा अपनी प्रकृति आवस्था को नहीं प्रकट करता | इसमें आंतरिक स्थिति को पकड़ने का सामथ्य नहीं | कारण, कला माया रूप है…….

Sammelan Patrika Kala PDF Pustak in Hindi Ka Kuch Ansh : Kala ki drashti se sanaar bhagwan ki lila ka murt rup hai. Iske tattv ko janne ki cheshta karna apne aap ko chakma dena hai. Iske dwara bhitari rahasy ko jaan pana sambhav nahin. Rup apne madhyam dwara apni prakrti aavastha ko nahin prakat karta. Ismen aantarik sthiti ko pakadne ka samathy nahin. Karan, kala maya rup hai…………
Short Passage of Sammelan Patrika Kala Hindi PDF Book : In the eyes of the world, the world is the embodiment of God’s lila. To try to know its essence is to deceive ourselves. It is not possible to know the inner mystery. The form does not reveal its nature by its medium. It is not possible to capture the internal situation. Reason, art is the form of Maya…………
“अपने ऊपर विश्वास रखें। जितना आप करते हैं उससे कहीं अधिक आप जानते हैं।” बेंजामिन स्पॉक
“Trust yourself. You know more than you think you do.” Benjamin Spock

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment