पुराणों में गंगा : श्री रामप्रताप त्रिपाठी द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – आध्यात्मिक | Purano Me Ganga : by Shri Rampratap Tripathi Hindi PDF Book – Spiritual (Adhyatmik)

पुराणों में गंगा : श्री रामप्रताप त्रिपाठी द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - आध्यात्मिक | Purano Me Ganga : by Shri Rampratap Tripathi Hindi PDF Book - Spiritual (Adhyatmik)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name पुराणों में गंगा / Purano Me Ganga
Author
Category,
Language
Pages 156
Quality Good
Size 68 MB
Download Status Available

पुराणों में गंगा पुस्तक का कुछ अंश : संवत १९८९ में श्री गंगा जी के पवित्र तट पर मुझे गंगा जी के सम्बन्ध में एक पुस्तक लिखने की प्रेरणा हुई और मैंने सामग्री एकत्रित करना आरम्भ किया | सज्जनों के सहयोग से यह कार्य संवत १९९८ में समाप्त हुआ और ‘गंगारहस्य’ के नाम से यह पुस्तक धर्मग्रन्थावली द्वारा प्रकाशित हो गयी……….

Purano Me Ganga PDF Pustak in Hindi Ka Kuch Ansh : Sanvat 1989 mein shri Ganga ji ke pavitr tat par mujhe ganga ji ke sambandh mein ek pustak likhne ki prerna hui aur mainne samagri ekatrit karna aarambh kiya. Sajjanon ke sahayog se yah kary sanvat 1998 mein samapt hua aur gangarahasy ke naam se yah pustak dharmgranthavali dwara prakashit ho gayi…………
Short Passage of Purano Me Ganga Hindi PDF Book : In 1989, on the holy coast of Shri Ganga, I was inspired to write a book about Ganga and I started collecting the material. This work ended in 1998 with the help of gentlemen and this book was published by ‘Dharmagranthavavale’ in the name of ‘Gangarasasya’……………
“अात्मानुशासन और आत्मसंयम के माध्यम से आप चरित्र की महानता को हासिल कर सकते हैं।” ग्रेनविल क्लाइज़र
“By constant self-discipline and self-control you can develop greatness of character.” Grenville Kleiser

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment