संदिग्ध संसार : विजय बहादुर सिंह द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – उपन्यास | Sandigdh Sansar : by Vijay Bahadur Singh Hindi PDF Book – Novel (Upnayas)

Book Nameसंदिग्ध संसार / Sandigdh Sansar
Author
Category, ,
Language
Pages 700
Quality Good
Size 20 MB
Download Status Available

पुस्तक का बिवरण : कुलेली नदी के उस तट पर जो हैदराबाद नगर की ओर है, अनेक धनवानों ने ग्रीष्मकाल में रहने के लिए बंगले और मकान बनबाये हैं जो दूर से देखने पर एक गाँव की तरह दिखाई पड़ता है | कुलेली के तट पर बनी हुई एक हवेली के दुमंजील पर लगभग चालीस-पैतालीस वर्ष की एक प्रौढ़ा स्त्री चन्द्रमा के प्रकाश में मनोहर तर्जित जल-प्रवाह के वक्षस्थल पर ……….

Pustak Ka Vivaran : Kuleli Nadi ke us tat par jo hydrabad nagar ki or hai, Anek dhanavanon ne greeshmakal mein rahane ke liye bangale aur makan banavaye hain jo door se dekhane par ek Ganv ki tarah dikhayi padata hai. Kuleli ke tat par bani huyi ek haveli ke dumanjil par lagabhag chalis-paitalees varsh ki ek praudha stri chandrama ke prakash mein manohar tarjit jal-pravah ke vakshasthal par………….

Description about eBook : On the banks of the river Kula, which is towards the city of Hyderabad, many rich people have built bangles and houses to live in the summers, which look like a village from far away. On the bank of a mansion built on the banks of the Kunya, an adult woman of about forty-forty-seven years is at the heart of the beautiful streamed stream of water in the light of moon…………..

“जो सब आप बनना चाहते हैं वह अपने समय से पहले नहीं बन सकते।” पीपलवेयर: प्रॉडक्टीव प्रोजेक्ट्स एंड टीम्स
“You can’t be everything you want to be before your time.” Peopleware: Productive Projects and Teams

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment