संकेत : ओम कुमार द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – कहानी | Sanket : by Om Kumar Hindi PDF Book – Story (Kahani)

संकेत : ओम कुमार द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - कहानी | Sanket : by Om Kumar Hindi PDF Book - Story (Kahani)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name संकेत / Sanket
Author
Category
Language
Pages 160
Quality Good
Size 2 MB
Download Status Available

संकेत पुस्तक का कुछ अंश : प्यार हो जयेया किसी कारण वश किया जाये, या करना पड़ जाए, आपस की बाते सार्वजनिक नहीं की जा सकती, इसलिए संचार व्यवस्था में संकेतों का विशेष स्थान रहता है | प्यार के संकेत अति सूक्ष्म प्रकृति के होते है, ज्यादा बातें तो आँखों आँखों में ही हो जाती है, यदि दोनों पक्ष (प्रेमी प्रेमिका अथवा वादी प्रतिवादी) आमने सामने न हो और आँखों का मिलना संभव न हो तो संकेत और भी सूक्षम हो जाते है………

Sanket PDF Pustak in Hindi Ka Kuch Ansh : Pyar ho jayeya kisi karan vash kiya jaye, ya karna pad jae, aapas ki bate sarvjanik nahin ki ja sakti, islie sanchar vyavastha mein sanketon ka vishesh sthan rahata hai. Pyar ke sanket ati sukshm prakrti ke hote hai, jyada baten to aankhon aankhon mein hi ho jate hai, yadi donon paksh (premi premika athava vadi prativadi) aamne samne na ho aur aankhon ka milna sambhav na ho to sanket aur bhi suksham ho jate hai…………
Short Passage of Sanket Hindi PDF Book : Love should be done for some reason, or it may have to be done, the words of each other can not be made public, hence signals remain in a special place in the communication system. The signs of love are of very subtle nature, more things happen only in the eyes, if the two parties (lover girlfriend or plaintiff’s defendant) are not face to face and the eyes are not possible then the sign becomes even more subtle…………..
“पूरा जीवन एक अनुभव है। आप जितने अधिक प्रयोग करते हैं, उतना ही इसे बेहतर बनाते हैं।” ‐ राल्फ वाल्डो एमर्सन
“All life is an experiment. The more experiments you make the better.” ‐ Ralph Waldo Emerson

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment