संकेत : उपेन्द्रनाथ अश्क द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – कहानी | Sanket : by Upendra Nath Ashk Hindi PDF Book – Story (kahani)

संकेत : उपेन्द्रनाथ अश्क द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - कहानी | Sanket : by Upendra Nath Ashk Hindi PDF Book - Story (kahani)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name संकेत / Sanket
Author
Category,
Language
Pages 625
Quality Good
Size 27 MB
Download Status Available

संकेत पुस्तक का कुछ अंश : “हाँ , लोग अलग ही रहते हैं, दिन में एकाधि चक्कर लगा जाते है | एक जुते का कारखाना देखता है, दूसरा साबुन की फैक्ट्री सम्हालता है | इस साले को उन पर भी विश्वास नहीं है | पुरे कागज-पत्तर, हिसाब-किताब अपने पास ही रखता है, नियम से शाम को वहाँ जाता है वसूली करने | लेकिन लड़के नहीं बड़े तेज हैं, जरा शौक़ीन तबियत पायी है | इसके मरते ही देख लेना मिस्त्री, वो इसकी सारी कंजूसी…….

Sanket PDF Pustak in Hindi Ka Kuch Ansh : Ha, Log Alag hi Rahte hain, Din mein Ekadhi Chakkar laga Jate hai. Ek Jute ka karkhana Dekhta hai, Dusara Sabun ki Factory Samhalta hai. Is Sale ko un par bhi  Vishvas nahin hai. Pure kagaj-Pattar, hisab-kitaab apane pas hi Rakhta hai, Niyam se sham ko Vahan Jata hai Vasuli karne. Lekin ladke bade Tej hain, Jara Shauqin tabiyat payi hai. Iske marate hi dekh lena Mistri, Vo Isaki Sari kanjusi…….
Short Passage of Sanket Hindi PDF Book : “Yes, people live differently, they are rotated in the daytime. Sees a warehouse factory, the second holds a soap factory. This brother-in-law does not believe in them too. Keeps the entire paper-book, the account itself, goes to the ritual in the evening, to recover. But the boys are not very fast, just have a lot of fun. Take a look at the death of her mistress, all her skimp…………..
“वह व्यक्ति समर्थ है जो यह मानता है कि वह समर्थ है।” ‐ बुद्ध
“He is able who thinks he is able.” ‐ Buddha

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment