अंतराल : अजय कुमार मिश्र द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – कहानी | Antral : by Ajay Kumar Mishra Hindi PDF Book – Story (Kahani)

अंतराल : अजय कुमार मिश्र द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - कहानी | Antral : by Ajay Kumar Mishra Hindi PDF Book - Story (Kahani)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name अंतराल / Antral
Author
Category, ,
Pages 15
Quality Good
Size 997 KB
Download Status Available
अंतराल पुस्तक का कुछ अंश : अपने कार्यालय में बैठा अर्नब अपने दैनिक कार्यों के निस्तारण में लगा था। अचानक निगाह घड़ी पर पड़ी | दोपहर के १:२५ बज चुके थे। मन में सोचा कि पहले काम निपटा लूँ। दो बजे लंच करूँगा। लगभग पाँच मिनट बाद उसका चपरासी कक्ष में प्रवेश किया और एक पर्ची पकड़ाते हुए बोला-” सर , ये मैम ज्वाइन करने आयी हैं।” अर्नबर अपनी कम्पनी में मैनेजिंग डाइरेक्टर(एच०आर०) के पद पर कार्यरत था………
Antral PDF Pustak in Hindi Ka Kuch Ansh : Apne karyalay mein baitha arnab apne dainik karyon ke nistaran mein laga tha. Achanak nigah ghadi par padi . Dopahar ke 1:25 baj chuke the. Man mein socha ki pahle kaam nipata lun. Do baje lanch karunga. Lagbhag panch minat baad uska chaprasi kaksh mein pravesh kiya aur ek parchi pakdate hue bola-“ sar , ye maim jvain karne aayi hain.” arnab apni kampani mein mainejing dairektar(H. R.) ke pad par karyarat tha………….
Short Passage of Antral Hindi PDF Book : Arnab sitting in his office was engaged in disposing of his daily work. Suddenly the eyes fell on the watch. It was 1:25 in the afternoon. Thought in the mind that first work should be done. Lunch at two o’clock After about five minutes, he entered the peon room and grabbed a slip and said, “Sir, he has come to join the mam.” Arnab was working as managing director (HR) in his company……………….
“आप किसी व्यक्ति को धोखा देते हैं तो आप अपने आपको भी धोखा देते हैं।” ‐आइज़ेक बेशेविस सिंगर
“When you betray somebody else, you also betray yourself.” ‐ Isaac Bashevis Singer

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment