सपाट चेहरे वाला आदमी : दूधनाथ सिंह द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – कहानी | Sapat Chehare Vala Aadmi : by Doodhnath Singh Hindi PDF Book – Story (Kahani)

Book Nameसपाट चेहरे वाला आदमी / Sapat Chehare Vala Aadmi
Author
Category, , , , , ,
Language
Pages 164
Quality Good
Size 4 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : उठकर दुबारा सोने के कमरे में जाने का ख़याल आते ही फिर जैसे उन्हीं तात की आलियों में वह जकड़ गया । क्या वह पत्नी को सब कुछ बता दे ? यही उसने चाहा था। बहुत शुरू में बल्कि शादी के पहले ही उसने इस बात का निर्णय ले लिया था। उन दिनों वह एक आदर्शवादी की तरह सोचता था जिसके मन में पाप की गहरी…….

Pustak Ka Vivaran : Uthakar dubara sone ke kamare mein jane ka khayal aate hi phir jaise unheen tat ki Aaliyon mein vah jakad gaya . Kya vah Patni ko sab kuchh bata de ? Yahi usane chaha tha. Bahut shuroo mein …balki shadi ke pahale hi usane is bat ka Nirnay le liya tha. Un dinon vah ek Aadarshavadi ki tarah sochata tha jisake man mein pap ki gahari……

Description about eBook : As soon as the idea of ​​getting up and going to the sleeping room came again, he got clutched in the same tart. Should she tell the wife everything? This is what he wanted. In the very beginning… he had decided to do this before marriage. In those days he used to think like an idealist who had deep sin in his mind ……

“शुरू में वह कीजिए जो आवश्यक है, फिर वह जो संभव है और अचानक आप पाएंगे कि आप तो वह कर रहे हैं जो असंभव की श्रेणी में आता है।” असीसी के संत फ़्रांसिस (११८२-१२२६), इतालवी साधु
“Start by doing what’s necessary; then do what’s possible; and suddenly you are doing the impossible.” St. Francis of Assisi (1182-1226), Italian Saint

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment