शिक्षा : स्वामी विवेकानन्द द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – सामाजिक | Shiksha : by Swami Vivekanand Hindi PDF Book – Social (Samajik)

Book Nameशिक्षा / Shiksha
Author
Category, , , , , ,
Language
Pages 66
Quality Good
Size 1.7 MB

पुस्तक का विवरण : “भारतीय शिक्षा की किसी समस्या को हल करने के लिए, सबसे पहले सामान्य जिक्षा-कार्य का अनुभव होना आवश्यक है; और इसके लिए शिक्षार्थी की आँखों से संसार की ओर- चाहे वह क्षण भर के लिए ही क्‍यों न हो-देखते रहना सबसे बडा और नितान्त वांछनीय गुण है। शिक्षा-शास्त्र का प्रत्येक सूत्र इसी सत्य की घोषणा करता है। शिक्षार्थी की आकांक्षाओं के बिपरीत शिक्षा देना, भलाई की अपेक्षा दुष्परिणामों का निश्चित……..

Pustak Ka Vivaran : Bharatiya Shiksha ki kisi Samasya ko hal karane ke liye, sabase pahale samany jiksha-kary ka anubhav hona aavashyak hai; aur isake liye shiksharthi ki aankhon se sansar ki aor- chahe vah kshan bhar ke liye hi k‍yon na ho-dekhate rahana sabase bada aur nitant vanchhaniy gun hai. Shiksha-shastr ka pratyek sootr isi saty ki ghoshana karta hai. Shikshaarthi ki Aakankshaon ke bipareet shiksha dena, bhalai ki apeksha dushparinamon ka nishchit……..

Description about eBook : To solve any problem of Indian education, one must first of all have general education work experience; And for this the greatest and most desirable quality is to look at the world through the eyes of the learner—even if it is only for a moment. Every sutra of pedagogy declares this truth. To teach contrary to the aspirations of the learner, is sure of the consequences rather than the good……..

“एक बार एक युवक को एक अच्छी सलाह प्राप्त करते हुए मैंने सुना था कि, “हमेशा वह कार्य करो जिसको करने से आप ड़रते हैं।”” ‐ राल्फ वाल्डो एमर्सन
“It was a high counsel that I once heard given to a young person, “Always do what you are afraid to do.”” ‐ Ralph Waldo Emerson

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment