सभी मित्र, हस्तमैथुन के ऊपर इस जरूरी विडियो को देखे और नाम जप की शक्ति को अपने जीवन का जरुरी हिस्सा बनाये
वीडियो देखें

हिंदी संस्कृत मराठी ब्लॉग

श्री दुर्गा सप्तशती / Shri Durga Saptashati

श्रीदुर्गा सप्तशती : संत नागपाल द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - धार्मिक | Shri Durga Saptashati : by Sant Nagpal Hindi PDF Book - Religious (Dharmik)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name श्री दुर्गा सप्तशती / Shri Durga Saptashati
Author
Category, ,
Language
Pages 343
Quality Good
Size 50 MB
Download Status Available

सभी मित्र हस्तमैथुन के ऊपर इस जरूरी विडियो को देखे, ज्यादा से ज्यादा ग्रुप में शेयर करें| भगवान नाम जप की शक्ति को पहचान कर उसे अपने जीवन का जरुरी हिस्सा बनाये|

श्री दुर्गा सप्तशती का संछिप्त विवरण : प्रात: स्मरणीय परमपूजनीय श्री दुर्गाचरणानुरागी बाबा संत नागपाल जी की हार्दिक इच्छा थी कि श्री दुर्गासप्तशती की जानकारी सभी श्रद्धालुओं एवं जनसाधारण तक पहुंचे, लोग इसकी गहराइयों को समझे और इसका पाठ घर-घर में प्रचलित हो | दो-तीन दशक पूर्व पूजनीय बाबा जी ने स्वयं श्रीदुर्गासप्तशती का हिंदी पद्यानुवाद किया था…….

Shri Durga Saptashati PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Prat: smaraniy parampujaniy shri Durgacharananuragi baba sant Nagpal ji ki hardik ichchha thi ki shri Durgasaptashati ki jankari sabhi shraddhaluon evan jansadharan tak pahunche, log iski gaharaiyon ko samajhe aur iska path ghar-ghar mein prachalit ho. Do-teen dashak purv pujaniy baba ji ne svayan Shridurgasaptashati ka hindi padyanuvad kiya tha…………
Short Description of Shri Durga Saptashati PDF Book : It was a heartfelt desire for the memory of Shri Durga Charanaruaragi Baba Sant Nagpal Ji that morning, the information of Shri Durga Saptashati reached all devotees and people, people understood its depths and its text was prevalent in the house. Baba ji had himself practiced Hindi by Shree Durga Saptashati two or three decades ago……………….
“जब तक किसी व्यक्ति द्वारा अपनी संभावनाओं से अधिक कार्य नहीं किया जाता है, तब तक उस व्यक्ति द्वारा वह सब कुछ नहीं किया जा सकेगा जो वह कर सकता है।” हेनरी ड्रम्मन्ड
“Unless a man undertakes more than he possibly can do, he will never do all that he can.” Henry Drummond

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Leave a Comment