श्री गुरुगीता : व्रज वल्लभ द्विवेदी द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – ग्रन्थ | Shri Guru Geeta : by Vraj Vallabha Dwivedi Hindi PDF Book – Granth

Book Nameश्री गुरुगीता / Shri Guru Geeta
Author
Category, , ,
Language
Pages 123
Quality Good
Size 49.6 MB
Download Status Available
चेतावनी यह पुस्तक केवल शोध कार्य के लिए है| इस पुस्तक से होने वाले परिणाम के लिए आप स्वयं उत्तरदायी होंगे न कि 44Books.com

पुस्तक का विवरण : भारतीय प्राचीन वाड्मय में वेद, स्मृति, पुराण ओर आगम-तन्त्रशास्त्र का विशेष स्थान है | मीमांसा दर्शन के प्रथम अध्याय के तृतीय पाद में इनके प्रामान्य पर विचार करते हुए वेदों की सर्वोपरि मान्यता स्थापित की गई है | संत तुलसीदास ने रामचरितमानस की रचना नाना पुराण, निगम (वेद) आगम रामायण आदि के आधार पर की थी………

Pustak Ka Vivaran : Bharatiy prachin vadmay mein ved, smrti, puran aur aagam-tantrashastr ka vishesh sthaan hai. Mimansa darshan ke pratham adhyay ke trtiy paad mein inke pramany par vichar karte hue vedon ki sarvopari manyata sthapit ki gai hai. Sant Tulsidas ne Ramcharitmanas ki rachna nana puran, nigam (ved) aagam ramayan aadi ke aadhar par ki thi…………

Description about eBook : In ancient Indian script, there is a special place for Vedas, Smriti, Purana and Agam-Tantraology. The Vedas’ paramount importance has been established considering the authenticity of the third chapter of the first chapter of Mimansa philosophy. Saint Tulsidas composed Ramcharitmanas on the basis of Nana Purana, Corporation (Vedas) Agam Ramayana etc…………..

“विषम परिस्थितियों के कठोर प्रहारों से ही चरित्र का निर्माण होता है।” आरनॉल्ड ग्लासौ
“It’s only by the hard blows of adverse fortune that character is tooled.” Arnold Glasow

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment