निगमागम संस्कृति : व्रजवल्लभ द्विवेदी द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – इतिहास | Nigmagam Sanskriti : by Vraj Vallabha Dwivedi Hindi PDF Book – History (Itihas)

Book Nameनिगमागम संस्कृति / Nigmagam Sanskriti
Author
Category,
Language,
Pages 50
Quality Good
Size 16.7 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : देश में आजकल दो तरह की संस्कृत शिक्षा प्रचलित है – एक प्राच्य पद्धति की और दूसरी पाश्चात्य पद्धति की | दोनों की अपनी-अपनी विशेषताएँ है | प्राच्य पद्धति जहाँ शास्त्रों की प्रत्येक पंक्कति और पदों के रहस्यों को खोलने में समर्थ है, वहीं पाश्चात्य पद्धति शास्त्रों के क्रमिक ऐतिहासिक विकास के तुलनात्मक अध्ययन में प्रवीण…….

Pustak Ka Vivaran : Desh mein aajkal do tarah ki sanskrt shiksha prachalit hai – ek prachy paddhati kee aur dusri pashchaty paddhati ki. Donon ki apni-apni visheshataen hai. Prachy paddhati jahan shastron ki pratyek pankkti aur padon ke rahasyon ko kholne mein samarth hai, vahin pashchaaty paddhati shastron ke kramik aitihasik vikas ke tulnatmak adhyayan mein pravin hai…………

Description about eBook : Nowadays, two types of Sanskrit education are prevalent in the country – one of the oriental method and the second western method. Both have their own characteristics. The oriental method, where the sacraments of the scriptures are able to open the secrets of the posts, the Western method is proficient in comparative study of the gradual historical development of the scriptures……………..

“आपके द्वारा कुछ ऐसा प्राप्त करना जिसे आपने पहले कभी भी प्राप्त नहीं किया है, आपको अवश्य ही ऐसा व्यक्ति बनना होगा जो आप पहले कभी नहीं थे।” ‐ ब्रिअन ट्रेसी
“To achieve something you’ve never achieved before, you must become someone you’ve never been before.” ‐ Brian Tracy

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment