हिंदी संस्कृत मराठी ब्लॉग

सुबह होने तक / Subah Hone Tak

सुबह होने तक : कामतानाथ द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - उपन्यास | Subah Hone Tak : by Kamatanath Hindi PDF Book - Novel (Upanyas)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name सुबह होने तक / Subah Hone Tak
Author
Category, , , ,
Language
Pages 141
Quality Good
Size 9 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : मेरे पास अधिक समय नहीं था। यही कोई छ-सात घंटे। बस। कल सुबह सूर्य की पहली किरण के साथ मुझे फाँसी दे दी जायेगी। हो सकता है, सूर्य उस समय तक न भी निकले। मुझे पता नहीं। मेरा ख्याल है, फांसी सुबह चार बजे दी जाती है। यह चार बजे का समय क्यों निश्चित किया गया है, इसका कारण बहुत सोचने पर भी…..

Pustak Ka Vivaran : Mere Pas Adhik samay nahin tha. Yahi koi chh-sat ghante. Bas. kal subah soory ki pahali kiran ke sath mujhe phansi de dee jayegi. Ho sakata hai, soory us samay tak na bhi nikale. Mujhe pata nahin. Mera khyal hai, phansi subah char baje di Jati hai. yah Char baje ka samay kyon nishchit kiya gaya hai, isaka karan bahut sochane par bhee……

Description about eBook : I did not have much time. That’s six to seven hours. Just. Tomorrow morning I will be hanged with the first ray of the sun. May be, the sun may not even come out by that time. I do not know. I think, the hanging is given at four in the morning. Why is it fixed at four o’clock, even after thinking a lot about the reason ……

“आपको शिक्षकों से मदद मिल सकती है, लेकिन आपको बहुत कुछ अपने आप ही सीखना होगा, किसी कमरे में अकेले बैठ कर।” – डॉ स्युस
“You can get help from teachers, but you are going to have to learn a lot by yourself, sitting alone in a room.” – Dr. Seuss

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Leave a Comment