सुकांत के सपनों में : मालचंद तिवाडी द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – कहानी | Sukant Ke Sapnon Mein : by Mal Chand Tiwari Hindi PDF Book – Story (Kahani)

सुकांत के सपनों में : मालचंद तिवाडी द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - कहानी | Sukant Ke Sapnon Mein : by Mal Chand Tiwari Hindi PDF Book - Story (Kahani)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name सुकांत के सपनों में / Sukant Ke Sapnon Mein
Author
Category, , , ,
Language
Pages 138
Quality Good
Size 2 MB
Download Status Available

सुकांत के सपनों में पुस्तक का कुछ अंश : “बात तुम मुर्दों की मेरे बापू को आने दो टिकुडी अंधेरे में अनुमान से उनके पीछे नजरें दौड़ा रही थी और उनकी जूतिया की चर-चू वो ही गालियाँ सुना रही थी । आखिर हॉँफकर माँचे पर बैठ गयी। जेई को माँचे की ईस से टिकाकर सास लेने लगी। सास संभली तो बतरह गरमी लगने लगी। लगा कि परसेव से नहा गयी है। यू ही बैठे बेठे उसकी……

Sukant Ke Sapnon Mein PDF Pustak in Hindi Ka Kuch Ansh : Bat tum Murdon ki mere Bapu ko aane do ” Tikudi Andhere mein anuman se unake peechhe Najaren dauda rahi thi aur unaki jootiya ki char-chu vo hi Galiyan suna rahi thi. Aakhir hanphakar manche par baith gayi. Jee ko manche Ki ees se tikakar sas lene lagi. Sas sambhalee to batarah garami lagane lagi. Laga ki parasev se naha gayi hai. Yu hi baithe bethe usaki…….
Short Passage of Sukant Ke Sapnon Mein Hindi PDF Book : You let the dead come to my Bapu. ”Tikudi was looking after him in the dark, and he was talking abuses. After all gasp sat on the floor. Jie started taking her mother-in-law with her face. When mother-in-law managed, she started feeling hot. Seemed to have taken a bath from Parsev. U only sit her …….
“दिल की आवाज़ का दिमाग को कोई ज्ञान नहीं होता है।” ब्लैस पास्कल
“The heart has its reasons of which reason knows nothing.” Blaise Pascal

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment