सुख यहाँ : श्री सहजानंद शास्त्रमाला द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक | Sukh Yayan : by Shri Sahjanand Shastrmala Hindi PDF Book

सुख यहाँ : श्री सहजानंद शास्त्रमाला द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक | Sukh Yayan : by Shri Sahjanand Shastrmala Hindi PDF Book
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name सुख यहाँ / Sukh Yayan
Author
Category
Language
Pages 450
Quality Good
Size 29 MB
Download Status Available

सुख यहाँ पुस्तक का कुछ अंशहम आप जीव हैं। जिनमे जाने देखने की शक्ति हो उन्हें जीवन कहते हैं। जो इस शक्ति से राहत है उन्हें अजिव कहते हैं। जो जाने, देखने वाली ज्योति है वही मैं हूं। क्या ज्योति के साथ अविनाशी आनंद है। क्या आनंद गन के विकास सुख-दुःख व आनंद है। सब जीव यही चाहते हैं कि मैं सुखी राहु, दुख न भोगू…………

Sukh Yayan PDF Pustak in Hindi Ka Kuch Ansh : Ham aap jeev hai. Jinme jaanne dekhne ki shakti ho unhen jeev kahte hai. Jo is shakti se rahit hai unhen ajeev kahte hai. Jo jaanne, dekhne vali jyoti hai vahi main hu. Is jyoti ke sath avinabhavi aanand hai. Is aanand gun ke vikaas sukh-duhkh va aanand hai. Sab jeev yahi chahte hai ki main sukhi rahu, duhkh na bhogu……………
Short Passage of Sukh Yayan Hindi PDF Book : We are your creatures. Those who have the power to know is called Jiva. Those who are devoid of this power, they are called lifeless. The one who knows, the light of seeing is the one I am. This flame has indestructible bliss. The development of the attributes of this bliss is happiness, sadness and joy. All creatures want me to be happy, not sorrow…………………
“एक बार काम शुरू कर लें तो असफलता का डर नहीं रखें और न ही काम को छोड़ें। निष्ठा से काम करने वाले ही सबसे सुखी हैं।” ‐ चाणक्य
“Once you start a working on something, don’t be afraid of failure and don’t abandon it. People who work sincerely are the happiest.” ‐ Chanakya

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment