ताण्डय महाब्राह्मण का समीक्षात्मक अध्ययन : लाल सिंह द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – साहित्य | Tanday Mahabrahman Ka Samikshatmak Adhyayan : by Lal Singh Hindi PDF Book – Literature (Sahitya)

ताण्डय महाब्राह्मण का समीक्षात्मक अध्ययन : लाल सिंह द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - साहित्य | Tanday Mahabrahman Ka Samikshatmak Adhyayan : by Lal Singh Hindi PDF Book - Literature (Sahitya)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name ताण्डय महाब्राह्मण का समीक्षात्मक अध्ययन / Tanday Mahabrahman Ka Samikshatmak Adhyayan
Author
Category, ,
Language
Pages 277
Quality Good
Size 18 MB
Download Status Available

ताण्डय महाब्राह्मण का समीक्षात्मक अध्ययन का संछिप्त विवरण : शोध कार्य पूर्ण करने में मेरे परिवार का भी बहुत सहयोग रहा है। माता पिता जिनकी स्मृतियाँ एवं आशीर्वाद ही शेष है। अग्र श्री लक्ष्मी नारायण सिंह प्रधानाचार्य के सहयोग को शब्दों में व्यक्त नहीं किया जा सकता, जिनके सानिध्य एवं सरंक्षण में प्रार्थी शोध-प्रबन्ध प्रस्तुत करने के योग्य बन सका। चाचा श्री शीतला…….

Tanday Mahabrahman Ka Samikshatmak Adhyayan PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Shodh kary purn karane mein mere parivar ka bhi bahut sahyog raha hai. Mata Pita jinaki smrtiyan evan Aashirvad hi shesh hai. Agr shri Lakshmi narayan singh pradhanachary ke sahyog ko shabdon mein vyakt nahin kiya ja sakata, jinake sanidhy evan sarankshan mein prarthi shodh-prabandh prastut karane ke yogy ban saka. Chacha shri sheetala……..
Short Description of Tanday Mahabrahman Ka Samikshatmak Adhyayan PDF Book : My family has also been very supportive in completing research. Parents whose memories and blessings remain. The words of Agar Sri Lakshmi Narayan Singh Principal can not be expressed in words, in whose context and protection, the applicant was able to present thesis. Uncle Mr. Sheetla ……..
“हे भगवान, मुझे उन बातों को स्वीकार करने का धैर्य प्रदान करो जिन्हें मैं बदल नहीं सकता हूं; जिन चीजों को मैं बदल सकता हूं उनको बदलने का साहस दो; तथा इन दोनों में अंतर करने के लिए बुद्धि प्रदान करो।” – डा. रीनहोल्ड नीबुहर
“God, grant me the serenity to accept things that I cannot change; The courage to change the things I can; And the wisdom to know the difference.” – Dr. Reinhold Niebuhr

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment