थोकरा संग्रह : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – सामाजिक | Thokara Sangrah : Hindi PDF Book – Social (Samajik)

थोकरा संग्रह : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - सामाजिक | Thokara Sangrah : Hindi PDF Book - Social (Samajik)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name थोकरा संग्रह / Thokara Sangrah
Author
Category, , ,
Language
Pages 746
Quality Good
Size 5 MB
Download Status Available

थोकरा संग्रह का संछिप्त विवरण : धर्म भावना सर्वज्ञ ने तो धर्म प्ररूपा है वह संसार समुद्र से पार उतारने वाला है। पृथ्वी निरावलम्ब निराधार है। चन्द्रमा और सूर्य समय पर उदय होते है। मेघ समय पर दृष्टि करते है। इस प्रकार जगत में जो अच्छा होता है, यह सब सत्य धर्म के प्रभाव से, ऐसा विचार करे। पंच चारित्र ५३ सामायिक चारित्र ५४ छेदोपनयिक चरित्र ५५ परिहार विशुद्ध चारित्र…….

Thokara Sangrah PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Dharm Bhavana sarvagy ne to dharm Praroopa hai vah Sansar samudra se Par Utarane vala hai. Prthvee Niravalamb Niradhar hai. Chandrama aur Soory Samay par uday hote hai. Megh samay par drshti karate hai. Is Prakar Jagat mein jo Achchha hota hai, Yah sab saty dharm ke Prabhav se, aisa vichar kare. panch charitra 53 Samayik charitra 54 chhedopanayik charitr 55 parihar vishuddh charitr…….
Short Description of Thokara Sangrah PDF Book : Religion spirit is omniscient, religion is the form, it is going to take the world beyond the sea. Earth is immutable. The moon and the sun rise in time. Clouds look at time. In this way, whatever is good in the world, with the influence of true religion, think so. Panch Charitra 53 Samayik Charitra 58 Perforated Character 55 Parivar Pure Charitra ……..
“सात बार गिरें, आठ बार उठ खड़े हों।” – जापान की कहावत
“Fall down seven times, get up eight times.” – Japanese proverb

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment