बीकानेर जैन लेख संग्रह : अमरचंद नाहटा द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – सामाजिक | Bikaner Jain Lekh Sangrah : by Amarchand Nahta Hindi PDF Book – Social (Samajik)

बीकानेर जैन लेख संग्रह : अमरचंद नाहटा द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - सामाजिक | Bikaner Jain Lekh Sangrah : by Amarchand Nahta Hindi PDF Book - Social (Samajik)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name बीकानेर जैन लेख संग्रह / Bikaner Jain Lekh Sangrah
Author
Category, , ,
Language
Pages 654
Quality Good
Size 206.57 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : जिस प्रकार जैन मुनियों ने लेखन एवं ग्रन्थ निर्माण में अपने अपूर्व समय एवं बुद्धि का सदुपयोग किया उसी प्रकार जैन उपासकों (श्रावकों) ने भी लाखों करोड़ों रुपये का सद्‌व्यय प्रतियाँ लिखने में, विविध चित्रल्ेखन में, स्वर्ण व रौप्य की स्याही से लिखने में किया | आज भी जैन भण्डारों में सुरक्षित…………….

Pustak Ka Vivaran : Jis prakar jain muniyon ne Lekhan evan granth Nirman mein apane apurv samay evan buddhi ka sadupayog kiya usi prakar jain upasakon (shravakon) ne bhi lakhon karodon rupaye ka sadvyay pratiyan likhane mein, vividh chitralekhan mein, svarn va raupy ki syahi se likhane mein kiya. Aaj bhi jain bhandaaron mein surakshit…………

Description about eBook : Just as Jain Munis used their unparalleled time and intellect in writing and writing books, in the same way Jain devotees (Shravakas) also wrote in written letters of millions of crores rupees, in various illustrations, in the writing of gold and silver ink. Still safe in Jain stores………………

“यदि आप ग़ुस्से के एक क्षण में धैर्य रखते हैं, तो आप दुःख के सौ दिन से बच जाएंगे।” – चीनी कहावत
“If you are patient in one moment of anger, you will escape a hundred days of sorrow.” -Chinese Proverb

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment