उपदेश-प्रसाद : मुनि श्री कुशल विजय जी द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – ग्रन्थ | Upadesh Prasad : by Muni Shri Kushal Vijay Ji Hindi PDF Book – Granth

उपदेश-प्रसाद : मुनि श्री कुशल विजय जी द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - ग्रन्थ | Upadesh Prasad : by Muni Shri Kushal Vijay Ji Hindi PDF Book - Granth
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name उपदेश-प्रसाद / Upadesh Prasad
Author
Category,
Language
Pages 299
Quality Good
Size 5 MB
Download Status Available

उपदेश-प्रसाद का संछिप्त विवरण : इस प्रथम विभाग में प्रथम चार स्तंभ के भाषांतर का समावेश है, जिस में ६१ व्याख्यान है | इस विभाग में मात्र समकित विषय का ही विवेचन है | प्रारम्भ में म॑गलाचरण कर उसके करने की आवश्यकता को सिद्ध करते हुए प्रथम व्याख्यान में जिनेश्वर के ३५ अतिशयों का रोचक वर्णन किया गया है जो पढ़ते ही बनता है…….

Upadesh Prasad PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Is pratham vibhag mein pratham char stambh ke bhashantar ka samavesh hai, jis mein 61 vyakhyan hai. Is vibhag mein matr samakit vishay ka hi vivechan hai. Prarambh mein mangalacharan kar uske karne ki aavashyakta ko siddh karte hue pratham vyakhyan mein jineshvar ke 35 atishayon ka rochak varnan kiya gaya hai jo padhte hee banta hai…………
Short Description of Upadesh Prasad PDF Book : This first division comprises the translation of the first four columns, which contains 61 lectures. In this department, there is only an explanation of the subject matter. In the first lecture proving the necessity of doing invocation at the beginning, interesting descriptions of 35 devotees of Jainswar are made which are read only…………….
“अच्छे मित्र के साथ कोई भी मार्ग लंबा नहीं होता है।” ‐ तुर्की की कहावत
“No road is long with good company.” ‐ Turkish Proverb

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment