वैराग्यशतक : भर्तृहरि द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – आध्यात्मिक | Vairagyashatak : by Bhartrhari Hindi PDF Book – Spiritual (Adhyatmik)

Book Nameवैराग्यशतक / Vairagyashatak
Author
Category, , , ,
Language
Pages 352
Quality Good
Size 13 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : धन के लालच में, मैं अपना देश और घर-दवार छोड़ कर ऐसे-ऐसे स्थानों में गया, जहां मनुष्य बड़ों कठिनाई से पहुँच सकते है | वहाँ जाकर भी मुझे एक पाई न मिली अपने दविजत्व या ऊंचीं जाति के अभिमान को त्याग कर पराई नौकरी भी की और मालिक ने जो-जो नीच कर्म कराये वही किये………

Pustak Ka Vivaran : Dhan ke Lalach mein, main apana desh aur Ghar-dvar chhod kar aise-aise sthanon mein gaya, jahan manushy badon kathinayi se pahunch sakate hai. Vahan jakar bhi mujhe ek payi na mili apane dvijatv ya Unchin jati ke Abhiman ko tyag kar parayi naukari bhi ki aur malik ne jo-jo neech karm karaye vahi kiye………….

Description about eBook : In the greed of wealth, I left my country and home and went to such places where the elders can reach hard. Even after going there, I did not get a pie, gave up the pride of my own dualism or higher caste and also gave me a second job and the master did whatever he did for me……………

“ऐसा नहीं है कि कार्य कठिन हैं इसलिए हमें हिम्मत नहीं करनी चाहिए, ऐसा इसलिए होता है क्योंकि हम हिम्मत नहीं करते हैं इसलिए कार्य कठिन हो जाते हैं।” – सेनेका
“It is not because things are difficult that we do not dare; it is because we do not dare that things are difficult.” – Seneca

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment