वनौषधि – चन्द्रोदय भाग-3 : श्री चन्द्रराज भण्डारी ”विशारद” द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – स्वास्थ्य | Vanushadhi – Chandroday Part-3 : by Shri Chandra Raj ”Visharad” Hindi PDF Book – Health (Svasthya)

Book Nameवनौषधि – चन्द्रोदय भाग-3 / Vanushadhi – Chandroday Part-3
Author
Category, , , ,
Language
Pages 322
Quality Good
Size 9 MB
Download Status Available

वनौषधि – चन्द्रोदय भाग-3 का संछिप्त विवरण : यह चीड़ के वृक्ष का गोद है। किसी यूनानी हकीम का कहना है कि वह ऐसे वृक्ष का गोद है जिसके पत्ते चिनार के पत्तो तरह होते है। यह वृक्ष हिंदुस्तान और टर्की में पैदा होता है। इसका रंग प्रारम्भ में सफ़ेद होता है। उसके बाद पीला और लाल रंग का होकर सख्त हो जाता है और आग पर डालने ले पिघल जाता है …….

Vanushadhi – Chandroday Part-3 PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Yah Cheed ke vrksh ka god hai. Kisi Eunani hakeem ka kahana hai ki vah aise vrksh ka god hai jisake patte chinar ke patto tarah hote hai. Yah vrksh hindustan aur Turcky mein paida hota hai. Isaka Rang prarambh mein safed hota hai. Usake bad peela aur Lal rang ka hokar sakht ho jata hai aur aag par dalane le pighal jata hai…………
Short Description of Vanushadhi – Chandroday Part-3 PDF Book : It is the lap of a pine tree. A Greek Hakim says that it is the lap of a tree whose leaves are like poplar leaves. This tree originates in India and Turkey. Its color is initially white. After that, yellow and red color becomes hard and melts when put on fire…………
“विवेक के मामलों में बहुमत के नियम का कोई स्थान नहीं है।” मोहनदास करमचंद गांधी (1869-1948)
“In matters of conscience the law of majority has no place.” Mohandas Karamchand Gandhi (1869-1948)

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment