वनौषधि – चन्द्रोदय भाग-4 : चन्द्रराज भण्डारी द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – स्वास्थ्य | Vanaushadhi – Chandroday Part-4 : by Chandra Raj Bhandari Hindi PDF Book – Health (Svasthya)

Book Nameवनौषधि - चन्द्रोदय भाग-4 / Vanaushadhi - Chandroday Part-4
Author
Category, , , ,
Language
Pages 125
Quality Good
Size 4 MB
Download Status Available

वनौषधि – चन्द्रोदय भाग-4 पीडीऍफ़ पुस्तक का संछिप्त विवरण : चीड़ वृक्ष बहुत बड़ा होता है। यह हिमालय प्रदेश में सिंघ से भूटान तक डेढ़ हजार फीट ऊंचाई तक और अफगानिस्तान म में पैदा होता है। इसके पत्ते गुच्छो में लगते है। इसकी दलिया हलके पीले रंग की होती है। इसकी छल में दरारें पड़ी हुई रहती है। इसके पत्ते चमकीले हरे रंग के और फल नोकदार होते है। इस फल……………

 

 

Vanaushadhi – Chandroday Part-4 PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Cheed vrksh bahut bada hota hai. Yah Himalay pradesh mein singh se bhootan tak dedh hazar pheet Unchayi tak aur Afaganistan ma mein paida hota hai. Isake patte guchchho mein lagate hai. Isaki daliya halake peele rang kee hoti hai. Isakee chhal mein dararen padee huyi rahatee hai. Isake patte chamakeele hare rang ke aur phal nokadar hote hai. is phal…………

Short Description of Vanaushadhi – Chandroday Part-4 Hindi PDF Book : The pine tree is very large. It originates in the Himalayan region from Singh to Bhutan to a height of one and a half thousand feet and in Afghanistan. Its leaves are planted in bunches. Its porridge is light yellow. There is cracks in its trick. Its leaves are bright green and fruits are pointed. This fruit………………

 

“कड़े गोश्त के लिए – पैने दांत।” ‐ तुर्की की कहावत
“For tough meat, sharp teeth.” ‐ Turkish folk saying

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment