विज्ञान प्रयोग : श्याम सुंदर शर्मा द्वारा | Vigyaan Prayog : by Shyam Sunder Sharma

पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name विज्ञान प्रयोग / Vigyaan Prayog
Category,
Language
Pages 136
Quality Good
Size 47 MB
Download Status Available

विज्ञान प्रयोग पुस्तक का कुछ अंश : मानव प्रथ्वी पर आज लगभग बीस लाख साल पहले था | प्रथ्वी के अन्य जीव-जंतु की भांति उसका भी विकास हुआ था | प्रारंभ में मनुष्य शारीरिक रूप से वर्तमान मनुष्य से बहुत भिन्न था ; पर उस समय भी उसका मस्तिष्क बहुत बड़ा था और उसमें अपने आसपास की वस्तुओं एवं घटनाओं को ध्यानपूर्वक देखने, उनके बारे में सोचने और उसके आधार पर निष्कर्ष निकलने का गुण था…..

Vigyaan Prayog PDF Pustak in Hindi Ka Kuch Ansh : Manav Prathvi par aaj lagbhag bees lakh sal pahale tha. Prathvi ke any jeev-jantu kee bhanti usaka bhee vikas hua tha. Prarambh mein manushy sharirik roop se vartaman manushy se bahut bhinn tha ; par us samay bhee uska mastishk bahut bada tha aur usamen apane aaspas kee vastuon evan ghatanaon ko dhyanapurvak dekhane, unake bare mein sochane aur usake aadhar par nishkarsh nikalane ka gun tha…..
Short Passage of Vigyaan Prayog Hindi PDF Book : Man was on the earth today about two million years ago. Like other creatures of the earth, it too had developed. In the beginning man was physically very different from the present man; But even at that time his brain was very big and he had the quality to observe the objects and events around him carefully, think about them and draw conclusions based on them……….
“फूलों की सुगंध केवल हवा के प्रवाह की दिशा में फैलती है लेकिन किसी व्यक्ति की अच्छाइयां सभी दिशाओं में फैलती हैं।” – चाणक्य
“The fragrance of flowers spreads only in the direction of the wind. But the goodness of a person spreads in all directions.” – Chanakya

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment