वृक्ष में जीव है : श्री मंगलानन्द पुरी द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – सामाजिक | Vriksh Me Jeev Hai : by Shri Mangalanand Puri Hindi PDF Book – Social (Samajik)

Book Nameवृक्ष में जीव है / Vriksh Me Jeev Hai
Author
Category, , , ,
Language
Pages 369
Quality Good
Size 5 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : स्वामी जी की पुस्तकें प्रकाशित करने से मेरा यह मतलब नहीं है कि मैं प्रकाशक बनकर कुछ आर्थिक लाभ कर सकूँ बल्कि मेरी यह आन्तरिक अभिलाषा है कि मैं वयोवृद्ध अनुभवी स्वामी जी की पुस्तकों को प्रकाशित कर उन के विचारों का भारत के घर घर में प्रचार करूँ: । स्वामी जी देश में धार्मिक जाग्रति उत्पन्न ‘करना चाहते हैं। मैं भी उनकी पुस्तकों के………

Pustak Ka Vivaran : Swami ji ki pustaken prakashit karane se mera yah matlab nahin hai ki main prakashak banakar kuchh aarthik labh kar sakoon balki meri yah aantarik abhilasha hai ki main vayovrddh anubhavi svami jee ki pustakon ko prakashit kar un ke vicharon ka bharat ke ghar ghar mein prachar karoon . Svami ji desh mein dharmik jagrati utpann karana chahate hain. Main bhi unaki pustakon ke……..

Description about eBook : By publishing Swami ji’s books, I do not mean that I can make some financial gains by becoming a publisher, but it is my inner desire that I publish the books of veteran veteran Swami ji and promote his ideas from house to house in India. Swamiji wants to generate religious awareness in the country. I too of his books……

“जो छोटे मसलों में सच को गंभीरता से नहीं लेता, उस पर बड़े मसलों में भी भरोसा नहीं किया जा सकता।” ‐ अल्बर्ट आइंस्टीन
“Anyone who doesn’t take truth seriously in small matters cannot be trusted in large ones either.” ‐ Albert Einstein

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment