व्यंग्य विधा के परिप्रेक्ष्य में हरिशंकर परसाई साहित्य का मूल्यांकन : अजय कुमार पाण्डेय द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – साहित्य | Vyangya Vidha Ke Pariprekshya Mein Harishankar Parsai Sahitya Ka Mulyankan : by Ajay Kumar Pandey Hindi PDF Book – Literature (Sahitya)

व्यंग्य विधा के परिप्रेक्ष्य में हरिशंकर परसाई साहित्य का मूल्यांकन : अजय कुमार पाण्डेय द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - साहित्य | Vyangya Vidha Ke Pariprekshya Mein Harishankar Parsai Sahitya Ka Mulyankan : by Ajay Kumar Pandey Hindi PDF Book - Literature (Sahitya)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name व्यंग्य विधा के परिप्रेक्ष्य में हरिशंकर परसाई साहित्य का मूल्यांकन / Vyangya Vidha Ke Pariprekshya Mein Harishankar Parsai Sahitya Ka Mulyankan
Author
Category, ,
Language
Pages 248
Quality Good
Size 9.5 MB
Download Status Available

व्यंग्य विधा के परिप्रेक्ष्य में हरिशंकर परसाई साहित्य का मूल्यांकन का संछिप्त विवरण : शोध विषय का चयन किसी शोधार्थी के लिए गम्भीर एवं महत्वपूर्ण समस्या होती है। मेरे समक्ष भी यह समस्या थी। इसी उधेडबुन मे जब प्रस्तुत विषय का सुझाव निर्देशिका डॉ० निशा अग्रवाल की ओर से आया, मैने विचार करने पर पाया कि यह विषय जितना नवीन और प्रासगिक है उतना ही मेरी रुचि का भी। मैने इस विषय पर कार्य करना सहर्ष स्वीकार कर लिया और इतना ही नही, इसे चुनौती के रूप……..

Vyangya Vidha Ke Pariprekshya Mein Harishankar Parsai Sahitya Ka Mulyankan PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Shodh Vishay ka chayan kisi Shodharthi ke liye Gambheer evan mahatvapurn samasya hoti hai. Mere samaksh bhi yah samasya thi. Isi Udhedabun me jab prastut vishay ka sujhav Nirdeshika Dr. Nisha Agrawal ki or se aaya, maine vichar karane par paya ki yah vishay jitana naveen aur prasagik hai utana hi meri ruchi ka bhi. Maine is vishay par kary karana saharsh svikar kar liya aur itana hi nahi, ise chunauti ke roop…….
Short Description of Vyangya Vidha Ke Pariprekshya Mein Harishankar Parsai Sahitya Ka Mulyankan PDF Book : The selection of research topic is a serious and important problem for a researcher. I had this problem as well. In the same confusion, when the suggestion of the present topic came from the director Dr. Nisha Agarwal, I found on thinking that this topic is as new and relevant as it is of interest to me. I gladly accepted to work on this subject and not only that, it was taken as a challenge……..
“कुछ लोग जिसे ग़लती से जीवन स्तर की बढ़ती कीमतें समझ बैठते हैं, वह वास्तव में बढ़ चढ़ कर जीने की कीमत होती है।” – डग लारसन
“What some people mistake for the high cost of living is really the cost of living high.” – Doug Larson

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment