जैसे उनके दिन फिरे : हरिशंकर परसाई द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – बच्चों की पुस्तक | Jaise Unke Din Phire : by Harishankar Parsai Hindi PDF Book – Children’s Book (Bachchon Ki Pustak)

Book Nameजैसे उनके दिन फिरे / Jaise Unke Din Phire
Author
Category, , , ,
Language
Pages 17
Quality Good
Size 3 MB
Download Status Available

जैसे उनके दिन फिरे का संछिप्त विवरण : बडा पुत्र हाथ जोड़कर बोला, “पिताजी, में जब दूसरे राज्य पहुंचा, तो मैंने विचार किया कि राजा के लिए ईमानदारी और परिश्रम बहुत आवश्यक गुण हैं। इसलिए में एक व्यापारी के यहां गया और उसके यहां बोरे ढोने का काम करने लगा। पीठ में मैंने एक वर्ष बोरे ढोए हैं, परिश्रम किया है। ईमानदारी से धन कमाया है। मजदूरी में से बचाई हुई ये सौ स्वर्ण – मद्राएं ही मेरे पास हैं…….

Jaise Unke Din Phire PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Bada Putra hath Jodkar bola, “Pitajee, mein jab doosare Rajy Pahuncha, to mainne vichar kiya ki Raja ke liye Emanadari aur Parishram bahut Aavashyak gun hain. isaliye mein ek vyapari ke yahan gaya aur usake yahan bore dhone ka kam karane laga. Peeth mein Mainne ek varsh bore dhoe hain, Parishram kiya hai. Emanadari se dhan kamaya hai. Majadooree mein se bachai huyi ye sau svarn – Mudrayen hee mere Pas hain………..
Short Description of Jaise Unke Din Phire PDF Book : The elder son said with folded hands, “Father, when I reached another kingdom, I thought that honesty and diligence are very necessary qualities for the king.” So I went to a businessman and started carrying sacks. I have spent a year in the back carrying sacks and labor. Have earned the wealth with honesty. I have only these hundred gold-madras saved from wages …………
“आप भींची मुट्ठी से हाथ नहीं मिला सकते।” – इंदिरा गांधी
“You cannot shake hands with a clenched fist.” – Indira Gandhi

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment