ये लोग : मत्स्येन्द्र शुक्ल द्वारा हिन्दी पीडीएफ़ पुस्तक | Ye Log : by Matsyendra Shukla Hindi PDF Book

ये लोग : मत्स्येन्द्र शुक्ल द्वारा हिन्दी पीडीएफ़ पुस्तक | Ye Log : by Matsyendra Shukla Hindi PDF Book
पुस्तक का विवरण / Book Details
Author
Category, ,
पुस्तक का डाउनलोड लिंक नीचे हरी पट्टी पर दिया गया है|
“सफलता की खुशियां मनाना ठीक है लेकिन असफलताओं से सबक सीखना अधिक महत्त्वपूर्ण है।” ‐ बिल गेट्स
“It is fine to celebrate success but it is more important to heed the lessons of failure.” ‐ Bill Gates

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

ये लोग : मत्स्येन्द्र शुक्ल द्वारा हिन्दी पीडीएफ़ पुस्तक | Ye Log : by Matsyendra Shukla Hindi PDF Book

ये लोग : मत्स्येन्द्र शुक्ल द्वारा हिन्दी पीडीएफ़ पुस्तक | Ye Log : by Matsyendra Shukla Hindi PDF Book

  • Pustak Ka Naam / Name of Book : ये लोग / Ye Log Hindi Book in PDF
  • Pustak Ke Lekhak / Author of Book : मत्स्येन्द्र शुक्ल / Matsyendra Shukla
  • Pustak Ki Bhasha / Language of Book : हिंदी / Hindi
  • Pustak Ka Akar / Size of Ebook : 28.0 MB
  • Pustak Mein Kul Prashth / Total pages in ebook : 183
  • Pustak Download Sthiti / Ebook Downloading Status : Best

(Report this in comment if you are facing any issue in downloading / कृपया कमेंट के माध्यम से हमें पुस्तक के डाउनलोड ना होने की स्थिति से अवगत कराते रहें )

ये लोग : मत्स्येन्द्र शुक्ल द्वारा हिन्दी पीडीएफ़ पुस्तक | Ye Log : by Matsyendra Shukla Hindi PDF Book

Pustak Ka Vivaran : Jasegar ke mukadame ki Antim Taareekh thi. Adaalat ki nigaah me maamala behad pechida aur kharatanaak tha. iseliyte paanch din se lagaataar yahi ek mukadama dekha ja raha tha. donon taraph ke vakeel ghanto bahas karate jaj khaamoshi se unake baate sunata. maahol me sanshay aur tanaav vyaapat tha…………

अन्य कहानी पुस्तकों के लिए यहाँ दबाइए- “कहानी हिंदी पुस्तक

Description about eBook : The final date for the case of Jasegar was. The case was very intriguing and factual in the court’s eyes. That’s why this same case was continuously seen for five days. The lawyers on both sides listen to their arguments with the silent arguments of the judge. There was confusion and tension in the atmosphere……………..

To read other Story books click here- “Hindi Story Books

 

सभी हिंदी पुस्तकें ( Free Hindi Books ) यहाँ देखें

 

श्रेणियो अनुसार हिंदी पुस्तके यहाँ देखें

 

“मौन एक ऐसा तर्क है जिसका खण्डन कर पाना अत्यंत दुष्कर है। ”
–  जॉश बिलिंग्स, विदूषक
——————————–
“Silence is one of the hardest arguments to refute. ”
– Josh Billings, Humorist
Connect with us on Facebook and Instagram – सोशल मीडिया पर हमसे जुड़ने के लिए हमारे पेज लाइक करें. लिंक नीचे दिए है

Leave a Comment