युद्ध और मुक्ति : भद्रगुप्तविजयी जी द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – उपन्यास | Yuddh Aur Mukti : by Bhadragupt Vijayi Ji Hindi PDF Book – Novel (Upanyas)

Book Nameयुद्ध और मुक्ति / Yuddh Aur Mukti
Author
Category, ,
Language
Pages 235
Quality Good
Size 6 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : मेरे देवर लक्ष्मण एक दिन घूमते-घूमते दण्डकारण्य में एक बांस के जाल के पास पहुँचे। उन्होंने वहाँ आकाश में लटकता खड्ग देखा । कुतुहलवश उन्होंने ख़ड़ग अपने हाथ में लिया, खडग को घुमाकर उन्होंने बांस के जाल पर प्रहार किया । उस बांस के जाल में रहे हुए किसी साथक का सिर कट गया मेरे देवर को पता चला खडग खन में लिप्त हो गया………

Pustak Ka Vivaran : Mere Devar Lakshman ek din ghoomate-ghoomate dandakarany mein ek bans ke jal ke pas pahunche. Unhonne vahan Aakash mein latakata khadg dekha . Kutuhalavash unhonne khadag apane hath mein liya, khadg ko ghumakar unhonne bans ke jal par prahar kiya . Us bans ke jal mein rahe huye kisi sadhak ka sir kat gaya mere devar ko pata chala khadg khoon mein lipt ho gaya tha…………

Description about eBook : My brother-in-law Lakshman one day wandered over to reach a bamboo trap in Dandakaranya. He saw a pillar hanging in the sky there. Out of curiosity, he took Khadag in his hand, he swung the Khadga and hit the bamboo net. My brother-in-law found the head of a seeker who was living in that bamboo trap. The pillar was covered in blood …………

“सीखने से मस्तिष्क कभी नहीं थकता है।” ‐ लियोनार्डो दा विंची
“Learning never exhausts the mind.” ‐ Leonardo da Vinci

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment