१८ वीं शताब्दी में अवध के समाज एव संस्कृति के कतिपय पक्ष : अखिलेश जायसवाल द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – इतिहास | 18th Shatabdi Mein Avadh Ke Samaj Evam Sanskriti Ke Katimay Paksh : by Akhilesh Jayaswal Hindi PDF Book – History (Itihas)

१८ वीं शताब्दी में अवध के समाज एव संस्कृति के कतिपय पक्ष : अखिलेश जायसवाल द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - इतिहास | 18th Shatabdi Mein Avadh Ke Samaj Evam Sanskriti Ke Katimay Paksh : by Akhilesh Jayaswal Hindi PDF Book - History (Itihas)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name १८ वीं शताब्दी में अवध के समाज एव संस्कृति के कतिपय पक्ष / 18th Shatabdi Mein Avadh Ke Samaj Evam Sanskriti Ke Katimay Paksh
Author
Category, ,
Language
Pages 365
Quality Good
Size 35 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : प्रस्तुत शोध प्रबन्ध में मैंने अवध के सामाजिक व सांस्कृतिक इतिहास को व्याखयारित करने के प्रयत्न किया है। भारतीय मुस्लिम संस्कृति का प्राख्य मुगल काल में प्राय सुनिश्चित हो चुका था और भारतीय मुस्लिम संस्कृति इसी काल में अपने बह्मोत्कर्ष पर पहुँच चुकी थी। परन्तु 8वीं शताब्दी में जब मुगल साम्राज्य पतनोन्मुख हुआ और क्षेत्रीय……

Pustak Ka Vivaran : Prastut shodh prabandh mein mainne avadh ke samajik va sanskrtik itihas ko vyakhayarit karane ke prayatn kiya hai. Bharatiya muslim sanskrti ka prakhy mugal kal mein pray sunishchit ho chuka tha aur bharateey muslim sanskrti isi kal mein apane bahmotkarsh par pahunch chuki thee. Parantu 18th Shatabdi mein jab mugal samrajy patanonmukh huya aur kshetriy………

Description about eBook : I have tried to interpret the social and cultural history of Awadh in the research project presented here. The predominance of Indian Muslim culture was often ensured during the Mughal period and Indian Muslim culture had reached its peak in this period. But in the 18th century, when the Mughal Empire was in decline and regional……

“महिलाएं विवाह करती हैं इस आस में कि पुरुष बदल जाएंगे। पुरुष विवाह करते हैं इस आस में कि महिलाएं नहीं बदलेंगी। इसलिए दोनों निस्संदेह रूप से निराश ही होते हैं।” ‐ अल्बर्ट आइन्सटाइन
“Women marry men hoping they will change. Men marry women hoping they will not. So each is inevitably disappointed.” ‐ Albert Einstein

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment