रमणीय वृक्ष १८ वी शताब्दी मे भारतीय शिक्षा : धर्मपाल द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – सामाजिक | Ramaniya Vraksh 18th Shatabdi Mein Bharatiya Shiksha : by Dharmpal Hindi PDF Book – Social (Samajik)

Book Nameमणीय वृक्ष १८ वी शताब्दी मे भारतीय शिक्षा / Ramaniya Vraksh 18th Shatabdi Mein Bharatiya Shiksha
Author
Category, , ,
Language
Pages 440
Quality Good
Size 7 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : बचे पांच वर्ष पुरे होने पर ही शाला में जाते है | उनकी बैद्धिक क्षमता के अनुरूप वे शाला में रहते है | साधारणतय देखा गया है कि तरह वर्ष के होने तक उनमें भिन्न-भिन्न विषय सीखने की क्षमता का असाधारण विकास होता है | केवल हिन्दू के लिए ही संभव है ऐसी लगन और जिज्ञासा को ही इसका श्रेय है………

Pustak Ka Vivaran : Bache panch varsh pure hone par hee shala mein jate hai. Unaki baiddhik kshamata ke anuroop ve shala mein rahate hai . Sadharanatay dekha gaya hai ki tarah varsh ke hone tak unamen bhinn-bhinn vishay seekhane kee kshamata ka asadharan vikas hota hai. keval hindu ke liye hee sambhav hai aisee lagan aur jigyasa ko hee isaka shrey hai………….

Description about eBook : Only five years remain in the school. They live in the school according to their intellectual capacity. It is generally seen that as long as the year, there is an extraordinary development of the ability to learn different subjects. It is only possible for the Hindus to have such credit and curiosity……………

“दिन प्रतिदिन की छोटी छोटी उपलब्धियों से ही मिलकर सफलता बनती है।” – लैड्डी एफ ह्यूटर
“Success consists of a series of little daily victories.” – Laddie F Hutar

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment