आखिर जो बचा : बुच्चीबाबू | Aakhir Jo Bacha : by Buchchibabu Hindi PDF Book

Book Nameआखिर जो बचा / Aakhir Jo Bacha
Author
Category,
Language
Pages 250
Quality Good
Size 10.7 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : इस उपन्यास का नायक डॉक्टर दयानिधि, एक और पात्र जगन्नाथम के शब्दों में दि वैल्थ ऑफ़ काईंडनेस है| लोगों से सुनी बात किउसकी माँ चरित्रहीन है दयानिधि के मस्तिष्क में घूमती रहती है| हम उम्र लड़कियों के साथ खुलकर बातें करना या चुटकी लेने का उसमें साहस नहीं है| रूपसी होने के कारण भगोड़ी कामाक्षी की रूपसी बेटी कोमली के प्रति उसका लगाव भी है, जो रूपसी है…………..

Pustak Ka Vivaran : Is Upanyas ka nayak doctor dayanidhi, ek aur patr jagnnatham ke shabdon mein di vailth of kaeendanes hai. Logon se suni bat kiusaki man charitraheen hai dayanidhi ke mastishk mein ghoomati rahti hai. Ham umr ladakiyon ke sath khulakar baten karna ya chutaki lene ka usamen sahas nahin hai. Roopasi hone ke karan bhagodi kamakshi ki roopasi beti komali ke prati uska lagav bhi hai, jo roopasee hai…………..

Description about eBook : The protagonist of this novel, Dr. Dayanidhi, is another character, The Wealth of Kindness in the words of Jagannatham. Heard from people that his mother is characterless, keeps revolving in Dayanidhi’s mind. We don’t have the courage to talk openly or take a quip with girls of our age. Being a rupasi, he also has an attachment to the fugitive Kamakshi’s rupasi daughter, Komli, who is rupasi………….

“निराशावादी व्यक्ति पवन के बारे में शिकायत करता है; आशावादी इसका रुख बदलने की आशा करता है; लेकिन यथार्थवादी पाल को अनुकूल बनाता है।” विलियम आर्थर वार्ड
“The pessimist complains about the wind; the optimist expects it to change; the realist adjusts the sails.” William Arthur Ward

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment