खुशबू तो बचा ली जाए : लक्ष्मी शंकर वाजपेयी द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – साहित्य | Khushabu To Bacha Ki Jaye : by Laxmi Shankar Vajpeyi Hindi PDF Book – Literature (Sahitya)

Book Nameखुशबू तो बचा ली जाए / Khushabu To Bacha Ki Jaye
Author
Category, ,
Language
Pages 78
Quality Good
Size 608 KB
Download Status Available

खुशबू तो बचा ली जाए पीडीऍफ़ पुस्तक का संछिप्त विवरण : लक्ष्मी शंकर वाजपेयी ने किसी मुलाकात मे मुझे पर यह ज़ाहिर नहीं होने दिया कि वे
कवि भी है | उनके रहन-सहन, शाइस्तगी गुफ्तगू के अंदाज़ ओर ख़ास तौर पर उनको आँखों में डूबती-
उभरती सोचो ने मुझे यह सोचने पर मजबूर कर दिया कि इस सीधे-सादे, पुरखुलूस नौजवान में कही-न-कही
कोई बड़ा कलाकार छुपा हुआ है। मे सोचता रहा कि काश, इन दफ्तरी.

Khushabu To Bacha Ki Jaye PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Lakshmi Shankar vajpeyi ne kisi mulakat me mujhe par yah zahir nahin hone diya ki ve kavi bhi hai . Unake rahan-sahan, shaistagee Guphtagu ke andaz or khas taur par unako aankhon mein doobatee-ubharati socho ne mujhe yah sochane par majboor kar diya ki is seedhe-sade, Purakhuloos Naujavan mein kahi-na-kahi koi bada kalakar chhupa huya hai. Me Sochata raha ki kash, in daphtari……..

Short Description of Khushabu To Bacha Ki Jaye Hindi PDF Book : Laxmi Shankar Vajpayee did not let me know in any meeting that he was also a poet. His way of life, especially in the eyes of Shaistagi Guftagu, he was soaring in my eyes that it made me think that there is a big artist hiding somewhere in this straightforward, patriotic young man. I kept thinking that I wish these offices ……

 

“पहले से ही कुछ निर्धारित नहीं होता है: आपकी विगत बाधाएं वह मार्ग प्रदान करती हैं जिस पर चल कर आप नई शुरुआत कर सकते हैं।” ‐ राल्फ ब्लम
“Nothing is predestined: The obstacles of your past can become the gateways that lead to new beginnings.” ‐ Ralph Blum

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment