अबरक के फूल : योगेश गुप्त द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – कहानी | Abrak Ke Phool : by Yogesh Gupta Hindi PDF Book – Story (Kahani)

अबरक के फूल : योगेश गुप्त द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – कहानी | Abrak Ke Phool : by Yogesh Gupt Hindi PDF Book – Story (Kahani)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name अबरक के फूल / Abrak Ke Phool
Author
Category, , ,
Language
Pages 159
Quality Good
Size 2 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : मै धीरे धीरे मर रहा हूँ | सभी धीरे- धीरे मरते है होशियार लोग होते है जो अचानक मर जाते है या मरने का फैसला करते है – और मर जाते है | इन सब लोगो के पास जीने के कारण होते है | मेरे पास जीने का कोई कारण नहीं है | यानी मै जिंदगी भर जीने का कारण ढूंढता रहा हूँ | और इसलिए शायद धीरे – धीरे मर रहा……

Pustak Ka Vivaran : Mai Dhire – Dhire mar raha hoon. Sabhi Dhire- Dhire marte hai hoshiyar log hote hai jo achanak mar jate hai ya marne ka phaisla karte hai – Aur mar jate hai. In sab logo ke pas jine ke karan hote hai. Mere pas jine ka koi karan nahin hai. Yani mai jindagi bhar jine ka karan dhoondhata raha hoon. Aur islie shayad Dhire – Dhire mar raha hoon……….

Description about eBook : I’m slowly dying. All die slowly, are smart people who suddenly die or decide to die – and die. All these people are due to live by. I have no reason to live. That is, I have been searching for the reason of living life. And so maybe I’m slowly dying……..

“अगर अवसर दस्तक न दे, तो स्वयं ही द्वार बना ले।” -मिल्टन बेरले
“If opportunity doesn’t knock, build a door.” – Milton Berle

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment