अग्रवाल जाति का विकास : परमेश्वरीलाल गुप्त द्वारा हिन्दी पीडीएफ़ पुस्तक | Agarwal Jati Ka Vikas : by Parmeshwari Lal Gupta Hindi PDF Book

अग्रवाल जाति का विकास : परमेश्वरीलाल गुप्त द्वारा हिन्दी पीडीएफ़ पुस्तक | Agarwal Jati Ka Vikas : by Parmeshwari Lal Gupta Hindi PDF Book
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name अग्रवाल जाति का विकास / Agarwal Jati Ka Vikas
Author
Category, ,
Language
Pages 234
Quality Good
Size 9 MB
Download Status Available

अग्रवाल जाति का विकास का संछिप्त विवरण : ऐसे लोगो की नामवाली प्रकशित कर उन्हें धन्यवाद देना अथवा कृतज्ञता प्रकाश करना पवित्र सम्बन्ध को मलिन करना होगा | मेरा ज्ञान उन्ही लोगों का आशीर्वाद है इसी आशीर्वाद की आकांशा मैं उनसे सदैव करता हूँ मैं उन्हें दूँ भी तो क्या ? पुस्तक की पाण्डुलिपि तैयार हो जाने पर भाई डॉक्टर सत्यकेतु विधलांलकार जी ने पुत्री वियोग से शोकग्रस्त……….

Agarwal Jati Ka Vikas PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Aise logo ki naamavaalee prakashit kar unhen dhanyavaad dena athava krtagyata prakaash karana pavitr sambandh ko malin karana hoga. mera gyaan unhee logon ka aasheervaad hai isee aasheervaad kee aakaansha main unase sadaiv karata hoon main unhen doon bhee to kya ? pustak kee paandulipi taiyaar ho jaane par bhaee doktar satyaketu vidhalaanlakaar jee ne putree viyog se shokagrast………….
Short Description of Agarwal Jati Ka Vikas PDF Book : To publish such names of people, thanking them or lighting up gratitude will have to sanctify the sacred relation. My knowledge is the blessing of those people. I always assume the hope of this blessing. What should I give them? When the book’s manuscript is prepared, brother Dr. Satyaketu Vidyalalakar ji mourns the daughter’s disconnection…………..
“जब मैं चौदह साल का लड़का था, तब मेरे पिता इतने अज्ञानी थे कि मुझे उनका आसपास होना बिल्कुल नहीं पसंद था। लेकिन जब मैं इक्कीस का हुआ, तो मुझे बेहद आश्चर्य हुआ कि सात वर्षों में उन्होंने कितना कुछ सीख डाला था।” ‐ मार्क ट्वैन
“When I was a boy of fourteen, my father was so ignorant I could hardly stand to have the old man around. But when I got to be twenty-one, I was astonished at how much the old man had learned in seven years.” ‐ Mark Twain

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment