आनन्द रस-रत्नाकर : श्री अखण्डानन्द सरस्वती जी द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – ग्रन्थ | Anand Ras Ratnakar : by Shri Akhandanand Saraswati Ji Hindi PDF Book – Granth

Book Nameआनन्द रस-रत्नाकर / Anand Ras Ratnakar
Author
Category, ,
Language
Pages 202
Quality Good
Size 49.7 MB
Download Status Available

आनन्द रस-रत्नाकर का संछिप्त विवरण : जो नारायण को अपने जीवन का संचालक बनाकर व्यवहार के रणक्षेत्र में अवतीर्ण होता है, वह सफल होता है और जो अकेले आता है, वह नष्ट-भ्रष्ट हो जाता है | यह आपने दैनिक जीवन की बात है | मालवीयजी की बात तो मैंने आपको कई बार सुनायी होगी | वे कहा करते थे कि आप घर से कोई भी काम करने के लिए चले तो चार बार-नारायण, नारायण, नारायण, नारायण बोलकर निकले…….

Anand Ras Ratnakar PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Jo narayan ko apne jeevan ka sanchalak banakar vyavahar ke ranakshetr mein avatirn hota hai, vah saphal hota hai aur jo akele aata hai, vah nasht-bhrasht ho jata hai. Yah aapne dainik jeevan ki baat hai. Malaviyaji ki baat to mainne aapko kai baar sunayi hogi. Ve kaha karte the ki aap ghar se koi bhi kaam karne ke lie chale to char baar-Narayan, Narayan, Narayan, Narayan bolkar nikle…………
Short Description of Anand Ras Ratnakar PDF Book : Who becomes Narayana’s operator of his life, becomes enlightened in the battlefield of behavior, he succeeds and who comes alone, he gets ruined. It’s a matter of daily life. I have told you many times about Malaviya. They used to say that if you go to work from home, then four times Narayan, Narayan, Narayan, Narayan………………
“पूरा जीवन एक अनुभव है। आप जितने अधिक प्रयोग करते हैं, उतना ही इसे बेहतर बनाते हैं।” ‐ राल्फ वाल्डो एमर्सन
“All life is an experiment. The more experiments you make the better.” ‐ Ralph Waldo Emerson

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment