अंगद का पांव : श्रीलाल शुक्ल द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – साहित्य | Angad Ka Panv : by Shri Lal Shukl Hindi PDF Book – Literature (Sahitya)

Book Nameअंगद का पांव / Angad Ka Panv
Author
Category, , , , , , , ,
Language
Pages 200
Quality Good
Size 4 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : इसलिए भारवि और माघ के साथ ही साथ कभी – कभी प्रसाद और निराला का भी नाम ले लेते हैं | उन्हें सब छायावादी कवियों के नाम याद हैं | वे यह भी जानते हैं कि महादेवी जी संस्कृत की एम० ए० हैं, निराला ने बचपन में श्लोक लिखे थे और प्रसाद ने संस्कृत का अध्ययन घर पर किया था | पन्त के बारे में उनकी राय अच्छी नहीं है…….

Pustak Ka Vivaran : Isiye Bharavi aur magh ke sath hi sath kabhi – kabhi prasad aur nirala ka bhi nam le lete hain . Unhen sab chhayavadi kaviyon ke nam yad hain. Ve yah bhi janate hain ki mahadevi jee sanskrt ki M.A. hain, nirala ne bachapan mein shlok likhe the aur prasad ne sanskrt ka adhyayan ghar par kiya tha. Pant ke bare mein unaki ray achchhi nahin hai………

Description about eBook : Therefore, along with Bharvi and Magha, they sometimes take the name of Prasad and Nirala. He remembers the names of all the poetical poets. They also know that Mahadevi ji is an MA in Sanskrit, Nirala wrote verses in his childhood and Prasad studied Sanskrit at home. His opinion about Pant is not good……….

“लहर को सही समय पर पकड़ने में किस्मत साथ दे सकती है, पर उसके साथ आगे बढ़ पाना आप पर है।” ‐ जिमोह ओबिएगेल
“Luck is in catching the wave, but then you have to ride it.” ‐ Jimoh Ovbiagele

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment