अन्तिम किसलय : गोपीकान्त पंडित द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – कहानी | Antim Kislay : by Gopikant Pandit Hindi PDF Book – Story (Kahani)

अन्तिम किसलय : गोपीकान्त पंडित द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - कहानी | Antim Kislay : by Gopikant Pandit Hindi PDF Book - Story (Kahani)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name अन्तिम किसलय / Antim Kislay
Author
Category, , , ,
Language
Pages 149
Quality Good
Size 4 MB
Download Status Available

अन्तिम किसलय का संछिप्त विवरण : एक बात और भी । बंगाल ने प्राय: प्रत्येक बात में पश्चिम का अनुशरण ही अधिक किया है। क्या साहित्य क्या कला सब में पश्चिम का जो संसिश्रण हो गया है उसमें हमें शुद्ध भारतीयता का रूप नहीं मिलता । यह प्रश्न दूसरा है कि उससे कला में कहाँ तक सुन्दरता आई है कहाँ तक विरूपता। संगीत को ही लीजिए। बंगाली संगीत में अंग्रेजी संगीत को…….

Antim Kislay PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Ek Bat Aur bhi. Bangal ne pray: pratyek bat mein pashchim ka Anusharan hi Adhik kiya hai. Kya sahity kya kala sab mein pashchim ka jo sansishran ho gaya hai usamen hamen shuddh Bhartiyata ka roop nahin milata . Yah Prashn doosara hai ki usase kala mein kahan tak sundarata aayi hai kahan tak virupata. Sangeet ko hi leejiye. Bangali Sangeet mein Angreji sangreet ko……..
Short Description of Antim Kislay PDF Book : One more thing. Bengal has mostly followed the West in almost everything. We do not find the form of pure Indianness in the West’s amalgamation, whether literature or art. The second question is, to what extent beauty has come to art from it, to what extent deformity. Take music only. English music in Bengali music…..
“भविष्य उनका है जो अपने सपनों की सुंदरता में यकीन करते हैं।” ‐ एलेअनोर रूज़वेल्ट
“The future belongs to those who believe in the beauty of their dreams.” ‐ Eleanor Roosevelt

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment