अनुभूत चिकित्सा सागर : पं. गंगा प्रसाद द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – स्वास्थ्य | Anubhoota Chikitsa Sagar : by Pt. Ganga Prasad Hindi PDF Book – Health (Svasthya)

Book Nameअनुभूत चिकित्सा सागर / Anubhoota Chikitsa Sagar
Author
Category, , , ,
Language
Pages 472
Quality Good
Size 24 MB
Download Status Available

अनुभूत चिकित्सा सागर का संछिप्त विवरण : यह दो प्रकार की होती है एक मीठी और दूसरी कड़वी। इसकी जड़की मोटाई और लम्बाई सब ठौर से एकसी नहीं होती है, यह बाँझ करेले की जड़ से बहुत मिलती है और शलगम से बहुत बड़ी होती है उस पर ऊपर से कुछ पिलास लिए हुए सफ़ेद कुछ उठे हुए गोल चक्कर होते है। यह स्वाद में कड़वी चेपदार और उट्टी होती है…..

Anubhoota Chikitsa Sagar PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Yah Do Prakar kee hoti hai ek meethi aur doosari kadavi. Isaki jadaki motai aur lambai sab thaur se ekasee nahin hoti hai, yah baanjh karele kee jad se bahut milatee hai aur shalagam se bahut badee hotee hai us par oopar se kuchh pilaas lie hue safed kuchh uthe hue gol chakkar hote hai. yah svaad mein kadavee chepadaar aur khattee hotee hai………….
Short Description of Anubhoota Chikitsa Sagar PDF Book : It is of two types, one sweet and the other bitter. Its thickness and length are not uniform at all, it is very similar to the root of the sterile bitter gourd and is much larger than the turnip, and there are some raised round circles with some silage on top. It is bitter, glutinous and sour in taste…………
“दूसरों को नियंत्रित करने वाला व्यक्ति शक्तिशाली हो सकता है, लेकिन जिस व्यक्ति ने स्वयं पर विजय प्राप्त कर ली हो, वह उससे कहीं अधिक महान बलशाली होता है।” ताओ ते चिंग
“He who controls others may be powerful, but he who has mastered himself is mightier still.” Tao Te Ching

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment