अशोक के अभिलेख : राजबली पाण्डेय द्वारा हिन्दी पीडीएफ़ पुस्तक | Ashok Ke Abhilekh : by Rajbali Pandey Hindi PDF Book

अशोक के अभिलेख : राजबली पाण्डेय द्वारा हिन्दी पीडीएफ़ पुस्तक | Ashok Ke Abhilekh : by Rajbali Pandey Hindi PDF Book
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name अशोक के अभिलेख / Ashok Ke Abhilekh
Author
Category, ,
Pages 426
Quality Good
Size 21 MB
Download Status Available

अशोक के अभिलेख का संछिप्त विवरण : अशोक के अभिलेखकों के नए संस्करण और अध्ययन के लिए क्षमा याचना की आवश्यकता नहीं है। ये अभिलेख भारतीय इतिहास और संस्कृत के महत्वपूर्ण स्रोत है। विषयगत महत्त्व के साथ साथ इनकी भाषा और शैलीगत अनिश्चितता के कारण इनकी गंभीरता और बढ़ जाती है। इनके उतरोत्तर पुन पार्थन, सम्पादन……….

Ashok Ke Abhilekh PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Ashok ke abhilekhakon ke nae sanskaran aur adhyayan ke lie kshama yaachana kee aavashyakata nahin hai. ye abhilekh bhaarateey itihaas aur sanskrt ke mahatvapoorn strot hai. vishayagat mahattv ke saath saath inakee bhaasha aur shaileegat anishchitata ke kaaran inakee gambheerata aur badh jaatee hai. inake utarottar pun paarthan, sampaadan………….
Short Description of Ashok Ke Abhilekh PDF Book : Ashok writers do not need apologies for new versions and studies. These records are important sources of Indian history and Sanskrit. Along with thematic importance, their language and stylistic uncertainty increase their severity. Their subsequent re-creation, editing…………..
“सौन्दर्य पहली नज़र में तो अच्छा है; लेकिन घर में आने के तीन दिन के बाद इसे कौन पूछता है?” – जॉर्ज बरनार्ड शॉ
“Beauty is all very well at first sight; but who ever looks at it when it has been in the house three days?” – George Bernard Shaw

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment