आत्म पूजा (भाग 1, 2, 3) : ओशो द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – आध्यात्मिक | Atma Puja (Part 1, 2, 3 ) : by Osho Hindi PDF Book – Adhyatmik (Spiritual)

Book Nameआत्म पूजा (भाग 1, 2, 3) / Atma Puja (Part 1, 2, 3 )
Author
Category, , ,
Pages 94
Quality Good
Size 715 KB

पुस्तक का विवरण : हम शब्द वही काम में लेते हैं। प्रत्येक वही शब्द काम में लेता है, परन्तु अलग-अलग मन के साथ शब्द के अर्थ भी अलग-अलग हो जाते हैं। उदाहरण के लिए एक डाक्टर एक रोगी से पूछता है-कैसे हैं आप ? सड़क पर किसी के आकस्मिक मिलन पर आप पूछते हैं-कैसे हैं आप? एक प्रेमी अपनी प्रेयसी से पूछता है – कैसी हैं आप………..

आत्म पूजा (भाग 1, 2, 3) : ओशो द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – आध्यात्मिक | Atma Puja (Part 1, 2, 3 ) : by Osho Hindi PDF Book – Adhyatmik (Spiritual)

 

Pustak Ka Vivran : Ham Shabd Vahi kam mein lete hain. Pratyek vahi shabd kam mein leta hai, parantu Alag-Alag man ke sath shabd ke arth bhi alag-alag ho jate hain. Udaharan ke liye ek Doctor ek Rogi se poochhata hai-kaise hain aap ? Sadak par kisi ke Aakasmik milan par aap poochhate hain-kaise hain aap ? Ek Premi Apni preyasee se poochhata hai – kaisi hain aap………..

Description about eBook : We use the word itself. Everyone uses the same word, but with different minds the meaning of the word also gets different. For example, a doctor asks a patient how are you? When you meet someone on the street, you ask – how are you? A lover asks his beloved – how are you………..

“वैयक्तिक स्तर पर उदासीनता सामूहिक स्तर पर उन्माद में बदल जाती है।” ‐ डगलस होफ़्स्टेटर
“Apathy at the individual level translates into insanity at the mass level.” ‐ Douglas Hofstadter

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment