आत्म पूजा उपनिषद् – 1 : ओशो द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – आध्यात्मिक | Atma Puja Upanishad – 1 : by Osho Hindi PDF Book – Spiritual (Adhyatmik)

आत्म पूजा उपनिषद् – 1 : ओशो द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – आध्यात्मिक | Atma Puja Upanishad – 1 : by Osho Hindi PDF Book – Spiritual (Adhyatmik)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name आत्म पूजा उपनिषद् - 1 / Atma Puja Upanishad - 1
Author
Category, ,
Language
Pages 94
Quality Good
Size 716 KB

पुस्तक का विवरण : इसके पूर्व कि हम अज्ञात में उतरें, थोड़ी सी बातें समझ लेनी आवश्यक हैं। अज्ञात ही उपनिषदों का संदेश। जो मूल है, जो सबसे महत्वपूर्ण है, वह सदैव ही अज्ञात है। जिसको हम जानते हैं, वह बहुत ही ऊपरी है। इसलिए हमें थोड़ी सी बातें ठीक से समझ लेना चाहिए, इसके पहले कि हम अज्ञात में उतरें। ये तीन शब्द-ज्ञात, अज्ञात, अज्ञेय समझ लेने जरूरी है सर्वप्रथम, क्योंकि उपनिषद अज्ञात से संबंधित हैं केवल प्रारंभ………

आत्म पूजा उपनिषद् – 1 : ओशो द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – आध्यात्मिक | Atma Puja Upanishad – 1 : by Osho Hindi PDF Book – Spiritual (Adhyatmik)

Pustak Ka Vivaran : Iske poorv ki ham agyat mein utaren, thodi si baten samajh leni Aavashyak hain. Agyat hi upanishadon ka sandesh. Jo mool hai, jo sabase mahatvapurn hai, vah sadaiv hi agyat hai. Jisako ham janate hain, vah bahut hi oopari hai. Isliye hamen thodi si baten theek se samajh lena chahiye, isake pahale ki ham agyat mein utaren. Ye teen shabd-gyat, agyat, agyey samajh lene jaruri hai sarvapratham, kyonki upanishad agyat se sambandhit hain keval prarambh………

Description about eBook : Before we plunge into the unknown, it is necessary to understand a few things. The message of the Upanishads is unknown. What is original, what is most important, is always unknown. What we know is very superficial. That’s why we should understand a few things properly, before we go into the unknown. It is necessary to understand these three words – known, unknown, agnostic, first of all, because the Upanishads are related to the unknown, only the beginning………

“अपने शब्दों को ऊंचा करें, आवाज़ को नहीं। फूल बादलों के बरसने से खिलते हैं, गरजने से नहीं। ” – जलालुद्दीन रुमी
“Raise your words, not your voice. It is rain that grows the flowers, not thunder. ” – Jalaluddin Rumi

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment