गुड वाइब्स गुड लाइफ : वेक्स किंग द्वारा हिंदी ऑडियो बुक | Good Vibes Good Life : by Vex King Hindi Audiobook

AudioBook Nameगुड वाइब्स गुड लाइफ / Good Vibes Good Life
Author
Category,
Language
Duration22;52 mins
SourceYoutube

Good Vibes Good Life Hindi Audiobook का संक्षिप्त विवरण : मेरे जीवन के शुरुआती तीन वर्षों तक (बचपन में) मेरे पास अपना कहने को कोई घर नहीं था। मैं और मेरा परिवार हमारे रिश्तेदारों के साथ रहते थे और उसी दौरान, थोड़े समय के लिए, हम एक शेल्टर होम में भी रहे। मैं ऊपरवाले का शुक्रिया अदा करता हूँ कि उस दौरान भी हमारे सिर पर छत थी; लेकिन मुझे याद है, शेल्टर होम में रहना कितना डरावना अनुभव था। हम जब भी बिल्डिंग में प्रवेश कर रहे होते तो हमेशा दरवाजे पर कुछ ऐसे लोग मौजूद होते, जो हमें अजीब नजरों से देख रहे होते। मैं, जो उस समय चार साल का एक बच्चा था, इससे डर जाता; लेकिन मेरी माँ मुझे आश्वस्त करतीं कि सबकुछ ठीक हो जाएगा। वह कहतीं, हमें बस नीचे देखते हुए चलना है और सीधे हमारे कमरे में जाना है।
एक रात जब कहीं बाहर से घूम-फिरकर हम वापस कहाँ पहुँचे तो हमने देखा कि सीढ़ियों और बरामदे की दीवारों पर बहुत सा खून फैला हुआ है। काँच के टुकड़े फर्श पर बिखरे हुए थे। मैंने और मेरी बहन ने इससे पहले कभी इससे डरावना कुछ नहीं देखा था। हम दोनों ने मॉम की ओर देखा। मुझे उनके भीतर मौजूद डर का आभास हो गया था; लेकिन फिर से पूरे साहस के साथ उन्होंने हमसे कहा कि हम सावधानी से काँच से बचकर चलें और अपने कमरे में जाएँ। मैं अब भी उस दृश्य को याद करके सिहर उठता हूँ, जो हमने उस समय देखा। मैं और मेरी बहन सोचते रहे कि शेल्टर के बरामदे की सीढ़ियों पर क्या हुआ होगा ? फिर हमने जिस जगह घटना घटी थी, वहाँ से लोगों के चीखने-चिल्लाने की आवाजें सुनीं। वे बहुत ही डरावनी थीं। एक बार फिर हमने आश्वस्त होने के लिए मॉम की ओर देखा। उन्होंने उस शोरगुल से हमें बचाने के लिए अपने पास खींच लिया और हमसे कहा कि घबराने की जरूरत नहीं है। लेकिन जब मैं किशोरावस्था के आखिरी दौर में था, मैं शिद्दत से चाहता था कि इनमें से बहुत सी यादें बस, मेरे जेहन से किसी भी तरह मिट जाएँ। मैं उन्हें अपने जीवन से ‘पूरी तरह मिटा देना चाहता था, इसलिए बचपन में मुझे जिन संघर्षों का सामना करना पड़ा, उन्हें मैंने कभी याद नहीं किया। उनमें से कुछ ने तो मुझे शर्मिंदा भी किया। उन दिनों मैं जो था, उसे स्वीकारने में मुझे बहुत तकलीफ होती थी। ऐसा भी समय था, जब मैंने ऐसी बहुत सी बातें कहीं या ऐसी चीजें कों, जो उस बच्चे से बिल्कुल भी मेल नहीं खाती थीं, जो मैं अंदर से था। इस संसार की बातों से बहुत बार मेरा दिल दुखा और बदले में मैं भी उसे चोट पहुँचाना चाहता था। अब चीजें अलग हैं। अब जब मैं पीछे मुड़कर देखता हूँ तो अपनी हर याद को खुशी-खुशी स्वीकार करता हूँ; क्योंकि मेरे साथ घटी हर घटना में मेरे लिए एक सबक छिपा हुआ था। हालाँकि हो सकता है कि उसमें कुछ मेरे लिए दर्दनाक रहीं, फिर भी वे मेरे लिए वरदान की तरह हैं; उनसे मैंने बहुत कुछ सीखा है। मेंरे अनुभवों ने मुझे एक खोजी इनसान बनाया, जिसने अपनी विपत्तियों से अपना रास्ता बनाया और एक बेहतर जीवन की ओर बढ़ चला।
मैंने यह पुस्तक अपने उस सबक को आप लोगों के साथ साझा करने और इस आशा में लिखी है कि यह आपको उस जीवन को जीने के लिए एक स्पष्ट राह और मार्गदर्शन देगी, जिसे मैं एक बेहतर जीवन कहता हूँ। अब यह आप पर है कि आप मेरी कहानियों से क्या आत्मसात्‌ करते हैं। मैं स्वीकार करता हूँ कि इनमें से कुछ विचार आपकी समझ में आएँगे तो कुछ को स्वीकारना आपके लिए असहज होगा। इसके बावजूद मैं मानता हूँ कि यदि आप उस अवधारणा, जिस पर मैंने इस पुस्तक में चर्चा की है, को अपने जीवन में लागू करते हैं तो आप अपने जीवन में अद्भुत सकारात्मक बदलावों को महसूस करेंगे। मैं कोई दार्शनिक, मनोवैज्ञानिक, वैज्ञानिक या कोई धर्म गुरु नहीं हूँ। मैं बस ‘एक साधारण इनसान हूँ, जिसे जीवन में नित कुछ नया सीखते रहना और अपने ज्ञान को दूसरों के साथ इस आशा में साझा करते रहना पसंद है कि शायद इससे वे अपनी परेशानियों से मुक्त हो जाएँ और जीवन में आनंद का अनुभव पहले से अधिक कर पाएँ।
मैं मानता हूँ कि इस दुनिया में जन्म लेनेवाला हर इनसान एक खास मकसद को पूरा करने के लिए आता है। मैंने खुद को आपके जीवन के उद्देश्य की तलाश के लिए समर्पित किया है, जिससे आप इस संसार में अपना योगदान कर सकें, जो बहुत अधिक कष्ट में है। अगर हम सब मिलकर इस संसार के चेतना से भरपूर नागरिकों की भूमिका निभाएँ तो हम उस बोझ को कम कर सकते हैं, जो हमने इस धरती पर डाला है। अपनी पूरी क्षमता के साथ जीवन व्यतीत कर आप न केवल अपनी दुनिया में बदलाव लाते हैं, बल्कि आप अपने आसपास के संसार को भी बदल देते हैं। अपने उस सबसे बेहतर रूप को बाहर लाएँ, जो आप बन सकते हैं। इस पुस्तक के लिए आपकी यह प्रतिबद्धता आवश्यक है कि आप अपने बेहतर रूप को बाहर लाएँगे। मेरा उद्देश्य आपकी उससे बेहतर इनसान बनाने में मदद करना है, जो आप बीते कल में थे। आपको ऐसा हर रोज करना है। आपको ऐसा हर तरह से अपने बाकी जीवन में करना है। यदि आप सुबह अपने मन में इस इच्छा के साथ बिस्तर से उठते हैं और फिर जाग्रत्‌ अवस्था में उसका अनुसरण करते हैं तो आप यह देखकर हैरान हो जाएँगे कि आपको इस पथ पर अग्रसर होने के लिए प्रेरणा प्रतिपल प्राप्त हो रही है। आपके जीवन में आगे बढ़ने के आपके निश्चय की प्रतिबद्धता का प्रतिबिंब स्पष्ट होता जाएगा।

“जीवन की पूर्णता की चुकाई कीमत में गलतियां भी एक अंश है।” सोफिया लोरेन
“Mistakes are part of the dues that one pays for a full life.” Sophia Loren

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment