बाल जगत की ऊषा : गिजुभाई बधेका द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – सामाजिक | Bal Jagat Ki Usha : by Gijubhai Badheka Hindi PDF Book – Social (Samajik)

बाल जगत की ऊषा : गिजुभाई बधेका द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - सामाजिक | Bal Jagat Ki Usha : by Gijubhai Badheka Hindi PDF Book - Social (Samajik)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name बाल जगत की ऊषा / Bal Jagat Ki Ushat
Author
Category,
Language
Pages 191
Quality Good
Size 6 MB
Download Status Available

बाल जगत की ऊषा का संछिप्त विवरण : उसका नाम पढा ! लेकिन इनमे से विकास कहां किस चरण में था, यह पता लगाना मुश्किल है। पर पढाई का यही स्तर था और हम उससे भली-भाति परिचित हैं। हमारी पाठशाला शिक्षण की प्रयोग भूमि नहीं थी। वह क्रीडागण नही थी। नाट्यूशाला नही थी, सग्रहालय भी नहीं थी। कलामंदिर ही थी। वह बगीचा भी नहीं था। टूटी-फूटी चारदीवारें, मैला-कचैला उखड़े तले वाला आंगन और फटी हुई किताबों वाल हम तथा डंडा लेकर घूमते हमारे अध्यापक ! यह थी हमारी………

Bal Jagat Ki Ushat PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Usaka Nam Padha ! Lekin Iname se Vikas kahan kis charan mein tha, Yah Pata Lagana Mushkil hai. Par Padhai ka yahi star tha aur ham usase bhali-bhati parichit hain. Hamari Pathshala shikshan kee prayog bhoomi nahin thee. Vah Kreedagan nahi thee. Natyashala nahi thee, Sagrahalay bhee nahin thee. Kalamandir hee thee. Vah Bageecha bhee nahin tha. Tooti-Phooti Charadeevaren, Maila-Kachaila ukhade tale vala Aangan aur phati huyi Kitabon val ham tatha danda lekar Ghoomate Hamare Adhyapak ! Yah thee hamari……….
Short Description of Bal Jagat Ki Ushat PDF Book : Read his name! But at which stage the development was out of these, it is difficult to ascertain. But this was the standard of studies and we are well aware of it. Our school was not a land of teaching. She was not a playground. There was no theater, there was no museum. It was only a temple. It was not even a garden. Broken walls, sloppy, uprooted courtyard and broken books, we and our teachers roam around with sticks. This was our ………
“एक ऐसा व्यक्ति जिसने कभी गलती नहीं की है, उसने जीवन में कुछ नया करने का कभी प्रयास ही नहीं किया होता है।” अल्बर्ट आईंस्टिन
“A person who never made a mistake never tried anything new.” Albert Einstein

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment