बाल साहित्य : रविन्द्रनाथ ठाकुर द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – साहित्य | Bal Sahitya : by Rabindranath Thakur Hindi PDF Book – Literature (Sahitya)

Book Nameबाल साहित्य / Bal Sahitya
Author
Category, , , , , ,
Language
Pages 287
Quality Good
Size 106 MB

पुस्तक का विवरण : उत्तर कलकत्ता में एक पुराणी सड़क है | उस पर भीड़ – भाड़ रहती है | ट्रा मैं बसे, मोटरगाड़ियाँ, भैंसागड़ियाँ, हाथ – ठेले आदि ठसाठस भरे रहते है | लोग इतने कि गिनती नहीं हो सकती | दोनों ओर के मकान सटे – सटे है | तिल – भर खुली जगह नहीं है | इस सड़क से छोटी – सी गली निकली है | गली में पैदल चलने के लिए किनारे पर पटरियाँ तक नहीं है………

Pustak Ka Vivaran : Uttar Kalakatta mein ek purani sadak hai. Us par Bhid – Bhad rahti hai. Tra mein Base, Motargadiyan, Bhensagadiyan, Hath – Thele adi thasathas bhare rahte hai. Log itne ki ginati nahin ho sakti. Donon or ke makan Sate – Sate hai. Til – Bhar khuli jagah nahin hai. Is sadak se Chhoti – Si gali nikali hai. Gali mein paidal chalne ke lie kinare par patariyan tak nahin hai……..

Description about eBook : North is an old road in Calcutta. There are crowds on it. Nestled in trams, motorcycles, bhangans, handcuffs etc. are filled with chaos. People can not count so many. The houses on both sides are adjacent – adjacent. Mole is not an open space. A small street has emerged from this road. There are no tracks on the side for walking in the street…….

“आप हमेशा परिस्थितियों को नियंत्रित नहीं कर सकते हैं, लेकिन आप स्वयं को नियंत्रित कर सकते हैं।” ‐ एंथनी रोब्बिन्स
“You can’t always control the wind, but you can control your sails.” ‐ Anthony Robbins

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment